Main Menu

'रिश्वतखोर महिला उप निरीक्षक गिरफ्तार' : एसीबी

'रिश्वतखोर महिला उप निरीक्षक गिरफ्तार' : एसीबी

जयपुर (राजस्थान) । पुलिसवालों की रिश्वतखोरी थमने का नाम नहीं ले रही है, ताजा मामला जयपुर के शिप्रापथ पुलिस थाने का है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने मंगलवार को उप निरीक्षक बबीता को पांच लाख की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया। एसीबी ने उप निरीक्षक के साथ ही उसके पति अमरदीप झाझड़िया को भी पकड़ा है। एसीबी का कहना है कि वह पत्नी द्वारा ली जाने वाली रिश्वत को लेने के लिए आया हुआ था। एसीबी उसके पति से भी पूछताछ कर रही है। 

एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरोत्तम वर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी उप निरीक्षक बबीता जयपुर कमिश्नरेट के दक्षिण जिले में शिप्रापथ थाने में तैनात है। दिल्ली की एक रजिस्टर्ड कंपनी की फर्म संचालक ने एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि बिटकाइन के जरिए मनी ट्रांजेक्शन के एक मामले में आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करने की धमकियां देकर महिला उप निरीक्षक सबइंस्पेक्टर बबीता 50 लाख रुपए की रिश्वत मांग रही है। हालांकि कंपनी के अधिकारियों ने पहले तो बबीता से बातचीत कर मामला सुलझाने का प्रयास किया, लेकिन जब वह नहीं मानी तो कंपनी के अधिकारी रिश्वत की रकम देने को तैयार हो गए। आपसी बातचीत में 45 लाख रुपए में सौदा तय हुआ था। रिश्वत की यह रकम किश्तों में दी जानी थी। वहीं एसीबी के अधिकारियों को इस बारे में मुखबिर से सूचना मिल गई थी। जब मंगलवार को पहली किश्त पांच लाख लेने उप निरीक्षक बबिता एक रेस्त्रां में पहुंची तो एसीबी ने उसे रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया । हालांकि जब एसीबी अधिकारियों से रिश्वत देने वाली कंपनी के बारे में जानकारी मांगी गयी तो उन्होंने कंपनी के बारे में जानकारी देने से इंकार कर दिया।  

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)