Main Menu

आधार कार्ड को लॉक - अनलॉक कैसे करें

आधार कार्ड को लॉक - अनलॉक कैसे करें

आजकल आधार कार्ड बहुत आवश्यक दस्तावेज हो गया है। इसके बिना आप कई सरकारी सेवाओं से वंचित हो सकते हैं, लेकिन यह सब वेरिफाइड बायोमेट्रिक और डेमोग्राफिक डाटा की वजह से ही संभव हो पाता है। आधार के 12 अंकों के यूनिक आईडेंटिफिकेशन नंबर  में आपकी पूरी डिटेल होती है। खतरे की बात यह है कि इस नंबर के जरिए आपसे धोखाधड़ी भी किया जा सकता है। हालांकि आप आधार की वेबसाइट पर ऑनलाइन लॉक-अनलॉक का ऑप्शन का इस्तेमाल करके किसी भी तरह की धोखाधड़ी से बच सकते हैं। जब आप अपना बॉयोमीट्रिक डाटा लॉक कर देते हैं तो न आप स्वयं और न ही दूसरा व्यक्ति डाटा का इस्तेमाल कर सकता है। यह सुविधा केवल ऑनलाइन उपलब्ध है। हालांकि इसके लिए आपका मोबाइल नंबर आधार के साथ रजिस्टर होना चाहिए। 

आधार कार्ड बायोमीट्रिक डाटा क्या होता है 

जब आप अपना आधार कार्ड बनवाने जाते हैं तो कार्ड बनवाने के दौरान सेंटर पर आपका फिंगर प्रिंट और रेटिना स्कैन डेटाबेस को लिया जाता है। इसे ही बायोमीट्रिक डाटाबेस कहा जाता है। हम आपको बताते हैं कि किस तरह आप आधार कार्ड की सुरक्षा के लिए आनलाइन आधार कार्ड लॉक - अनलॉक कैसे करते हैं। 

  • आप सबसे पहले यूआईडीएआई की वेबसाइट के लिंक https://resident.uidai.gov.in/biometric-lock पर जाएं। और लॉक - अनलॉक बायोमीट्रिक लिंक पर क्लिक करें।

 

  • यहां पर आप यूआईडी के बॉक्स में अपना 12 अंकों का आधार नंबर डालें। इसके बाद आधार नंबर के नीचे दिया गया सिक्यूरिटी कोड डालिए।
  • सिक्युरिटी कोड डालने के बाद सेंट ओटीपी पर क्लिक करें,
  • इस पर क्लिक करने पर आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर 6 डिजिट का OTP आएगा। अब ओटीपी को उसे बगल के बाक्स में दर्ज करें।
  • इसके बाद आप लॉगइन पर क्लिक करें।

 

  • आप अब फिर से दिखाए बाक्स में सिक्यूरिटी कोड डालें।
  • अब आधार कार्ड को लॉक करने लिए इनेबल बटन पर क्लिक कर दें।
  • जैसे ही आप इनेबल बटन पर क्लिक करेंगे "Congratulation ! Your biometrics is locked" लिखा हुआ मैसेज आ जाएगा।

  • इसका मतलब है कि आपक बायोमेट्रिक लॉक हो गया है। अब आधार कार्ड बायोमीट्रक डाटा  का कोई इस्तेमाल नहीं कर सकता है। 

आधार कार्ड को अनलॉक कैसे करें 

यदि आप कोई सरकारी सेवा लेने जा रहे हैं तो और वहां पर आधार कार्ड का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको आधार कार्ड को अपने घर पर ही अनलॉक  करके जाना पड़ेगा। तभी आपका काम हो पायेगा। अब आप नीचे दिए गए आधार कार्ड को आनलाइन अनलॉक करने की प्रक्रिया का पालन करें। 

  • सबसे पहले आप यूआईडीएआई की वेबसाइट के इस https://resident.uidai.gov.in/biometric-lock लिंक पर जाएं।
  • अब यहां पर बने बॉक्स में 12 नंबर का आधार नंबर डालें।
  • इसके बाद आधार नंबर के नीचे नज़र आ रहे सिक्यूरिटी कोड को डालें।
  • फिर जनरेट-सेंट ओटीपी पर क्लिक करें।
  • अब आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर ओटीपी एसएमएस के ज़रिए पर भेजा जाएगा। मोबाइल पर भेजे गए ओटीपी को उसी पेज पर लिखें।
  • अब आप लॉगइन पर क्लिक करें।

  • इसके बाद फिर से दिखाए बॉक्स में सिक्यूरिटी कोड डालें।
  • अब अनलॉक के बगल वाले बॉक्स डिसेबल पर क्लिक करें।

  • इस प्रक्रिया के बाद आपका आधार कार्ड अनलॉक हो जाएगा।

नोट-

  • आपको बता दें कि बायोमीट्रिक डाटा को लॉक करने के बाद आप आधार  पर आधारित लेनदेन और रिक्वेस्ट को केवल मोबाइल नंबर पर भेजे ओटीपी के जरिए ही वेरीफाई कर सकेंगे। क्योंकि बिना ओटीपी के ऐसा करना संभव नहीं होगा।
  • यदि कोई व्यक्ति आपके बॉयोमीट्रिक डाटा का अनलॉक करने के लिए प्रमाणीकरण सेवाओं का इस्तेमाल करने की कोशिश करता है, तो एक एरर कोड '330' दिखाई देगा। यह कोड यह दर्शाता है कि बॉयोमीट्रिक्स लॉक है।
  • आपको बता दें कि बॉयोमीट्रिक डाटा एक बार खुलने पर केवल 10 मिनट के लिए उपयोगी होगा। 10 मिनट के बाद यह अपने आप लॉक हो जाएगा। यदि आप चाहते हैं कि आपका बॉयोमीट्रिक डाटा अनिश्चित काल तक उपयोगी रहे तो वेबसाइट पर इसका विकल्प भी मौजूद है।
  • यूआईडीएआई की सलाह है कि आपको हर 10 वर्ष में एक बार बॉयोमीट्रिक डाटा को अपडेट करवाना चाहिए।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)