Main Menu

प्लास्टिक आधार कार्ड से सावधान !

प्लास्टिक आधार कार्ड से सावधान !

प्लास्टिक आधार कार्ड से सावधान !

आधार कार्ड को पीवीसी(Poly Vinyl Chloride) या स्मार्ट कार्ड में बदलना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। यदि आपने आधार कार्ड का किसी दुकान से लेमिनेशन करा रखा है या फिर प्लास्टिक स्मार्ट कार्ड के तौर पर उसका इस्तेमाल करते हैं, तो सावधान रहें। क्योंकि प्लास्टिक या पीवीसी के आधार स्मार्ट कार्ड किसी काम के नहीं हैं। 

  • यूनिक आइडेंटीफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने प्लास्टिक से बने स्मार्ट कार्ड वाले आधार के इस्तेमाल नहीं करने की सलाह दी है। और लोगों को इसे न बनवाने की सलाह दी है।
  • यूआईडीएआई ने कहा है कि प्लास्टिक से बने स्मार्ट कार्ड वाले आधार की छपाई की बेहतर क्वालिटी नहीं होने की वजह से इनका क्यू आर (QR) कोड आमतौर पर खराब हो जाता है, जिसके बाद इन्हें स्कैन नहीं किया जा सकता है
  • जिस शॉप या वेंडर से यह कार्ड बनवाया जाता है, उसके पास आपकी निजी सूचना भी पहुंच जाती है। यह भी आशंका है कि आप की मंजूरी के बिना ही गलत तत्वों तक आपकी निजी जानकारी साझा हो जाए।
  • यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) का कहना है कि सादे कागज का आधार, आधार का डाउनलोडेड वर्जन और मोबाइल आधार पूरी तरह से मान्य हैं।  
  • मोबाइल आधार को आप अपनी पहचान के लिए कहीं भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • सामान्य कागज पर डाउनलोड किया हुआ आधार कार्ड पूरी तरह से वैध है। भले ही आधार कार्ड ब्लैक एंड व्हाइट ही क्यों न हो वो भी पूरी तरह से वैध है।

 

 

 

 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)