आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

ड्राइविंग लाइसेंस का अधिकार



 

  1. मोटर गाड़ी अधिनियम के अनुसार 18 वर्ष से कम आयु के किसी व्यक्ति को चालक लाइसेंस नहीं दिया जा सकता।
  2. 20 वर्ष से कम आयु का व्यक्ति किसी यातायात (Transport) गाड़ी का चालक लाइसेंस नहीं ले सकता।
  3. पूर्ण स्थायी लाइसेंस लेने से पूर्व प्रशिक्षु लाइसेंस लेना होता है व पूर्ण स्थायी लाइसेंस 3 वर्ष के लिए मान्य होता है।

गाड़ियों का पंजीकरण

  • गाड़ियों के पंजीकरण के लिए अधिकृत पंजीकरण अधिकारी को आवेदन किया जाना चाहिए।
  • पंजीकरण 15 वर्षों के लिए मान्य होता है।
  • यातायात नियंत्रण की दृष्टि से मोटर गाड़ियों के खाली तथा भरे हुए भारों का निर्धारण कर पंजीकरण आदेश में दर्ज किया जाता है। इसका उल्लंघन करने पर दंड का प्रावधान है।

गाड़ियों के प्रवेश और चालन पर प्रतिबंध

  • राज्य सरकारें इच्छित स्थानों पर इच्छित मोटर गाड़ियों के प्रवेश एवं चालन पारिस्थितिकी एवं पर्यावरण प्रदूषण पर स्थायी अथवा अस्थायी रोक लगा सकती है।
  • शोर अथवा अन्य किसी प्रकार का प्रदूषण करने वाले वाहन को चलाने पर पहली बार 500 रुपए तक व अगली बार 2000 रुपए तक जुर्माना किया जा सकता है।

दुर्घटना की दें सूचना

  • दुर्घटना होने पर मोटर चालक को घायल व्यक्ति के उपचार में मदद करनी चाहिए, पुलिस को तुरंत सूचना देनी चाहिए तथा बीमा कंपनी को सूचना देनी चाहिए।
  • अधिकृत व्यक्तियों को अधिनियम में वर्णित सूचनाएं न देने पर 500 रुपए आर्थिक दंड का प्रावधान है।

नियमों को तोड़ने पर सजा

  • अनधिकृत व्यक्ति द्वारा मोटर गाड़ी चालन करने पर तीन मास की कैद या 1000 रुपए आर्थिक दंड का प्रावधान है।
  • निर्धारित गति से अधिक गति पर मोटर चालन करने पर 1000 रुपए तक आर्थिक दंड
  • खतरनाक विधि से मोटर चालन पर प्रथम बार में 6 मास का कारावास या और 1000 रुपए जुर्माना, अगले अपराध पर 2 वर्ष तक की कैद या 2000 रुपए जुर्माने का प्रावधान है।
  • शराब पीकर गाड़ी चलाने पर पहली बार पकड़े जाने पर 6 माह की कैद व दूसरी बार में 3 वर्ष तक कैद हो सकती है।
  • वाहन चालक पर दिन में एक बार चालान होने पर दोबारा चालान की कार्रवाई नहीं की जाती है।
  • अगर गाड़ी चलाते वक्त हेलमेट न पहनने पर आपका चालान किया जाता है तो उस दिन के रात 12 बजे तक उसी कारण से दोबारा चालान नहीं काटा जा सकता। लेकिन इसके लिए आपके पास उस चालान की रसीद होना जरूरी है।
  • नॉन मोटराइज्ड व्हीकल जैसे रिक्शा, साइकिल के मोटर व्हीकल एक्ट के अंडर न आने के कारण ट्रैफिक नियम तोड़ने पर किसी भी तरह का जुर्माना नहीं लगाया जा सकता है।

     

  •  

 

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य