आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

डाक सेवा का अधिकार



4-बड़े डाकघरों को या बड़े डाकघरों से भेजे जाने वाले पंजीकृत पार्सल का वजन 20 किलोग्राम से अधिक नहीं होना चाहिए।

पार्सल में निम्न सामग्री भेजने पर रोक

1-अभद्र , अश्लील , राजद्रोह भड़काने वाली , गाली गलौज वाली अथवा धमकी भरी सामग्री ।

2-ज्वालनशील , विस्फोटक, गंदे , नुकसान पहुंचाने वाले तथा अन्य खतरनाक पदार्थ।

3-सजीव प्राणी तथा नुकसान पहुंचाने वाली वस्तुएं।

4-लॉटरी के टिकट और लॉटरी में शामिल होने के लिए प्रेरित करने वाली सामग्री। हालांकि सरकार द्वारा आयोजित या अधिकृत लॉटरी की टिकट तथा सामग्री भेजी जा सकती है ।

5-ऐसी पत्र-पत्रिकाएं जो प्रेस तथा पुस्तक पंजीकरण अधिनियम के प्रावाधानों के अनुरुप न हों ।

6-कानून व्यवस्था अथवा किसी समुदाय या वर्ग को नुकसान पहुंचाने की आशंका वाली सामग्री ।

7-किसी घोषित अपराधी अथवा निवारक नजरबंदी कानून के तहत नजरबंद किए जाने वाले किसी व्यक्ति की तस्वीर ।

8-नशीले पदार्थ तथा प्रतिबंधित पदार्ध ।

9-पंखों , खालों और नुकसान पहुंचाने वाले कीटों समेत अन्य प्रतिबंधित सामग्री ।

10- 5 किलोग्राम तक के पार्सल , पाने वाले को उसके पते तक पहुंचाए जाते हैं। जबकि इससे भारी पार्सलों को ले जाने के लिए पाने वाले को पोस्ट आफिस सूचना भेजता है ।

प्रेषण प्रमाणपत्र

किसी भी प्रकार की अपंजीकृत डाक के लिए आप प्रेषण प्रमाणपत्र हासिल कर सकते हैं । यह मात्र डाक भेजे जाने का प्रमाण है , लेकिन डाक की उसकी रशीद नहीं है ।

पंजीकरण

1-किसी भी पोस्ट आफिस या मेल आफिस से पोस्टकार्ड के अलावा सभी प्रकार की पंजीकृत डाक भेजी जा सकती है । अगर पावती कार्ड भी लगाएं तो पाने वाले को डाक से मिलने वाली पावती आपको वापस भेजी जायेगी ।

2-अगर आपने पावती समेत पंजीकृत पत्र भेजा है और पोस्ट आफिस आपको पावती नहीं दे पाता है तो आप पत्र की पावती रसीद की  प्रमाणित प्रति मुफ्त में पोस्ट आफिस से मांग सकते हैं ।

3-चार किलोग्राम से ज्यादा वजन वाले पार्सल पंजीकृत डाक से ही भेजे जाने चाहिए।

दोगुनी दर पर पंजीकरण

1-अगर डाक विभाग को पता चले कि पंजीकृत डाक से भेजी जाने वाली सामग्री पंजीकृत डाक से नहीं भेजी गयी है ।

2-अगर कोई पंजीकृत सामग्री पाने वाले को मिल जाने के बाद दोबारा पोस्ट किया जाए।

3-अगर अपंजीकृत डाक के ऊपर पंजीकृत लिखकर इसे पोस्ट किया जाए।

4-अगर अपंजीकृत पार्सल को डाक काउंटर पर कर्मचारी को देने की बजाय लेटर बॉक्स में डाल दिया जाए।

मुआवजा

1-पंजीकृत सामग्री के डाक में खो जाने या नुकसान होने की जिम्मदारी डाक विभाग नहीं लेता है । विभाग ऐसा स्थिति में 100 रुपए तक का मुआवजा दे सकता है ।

 

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य