आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

जन्म प्रमाणपत्र का अधिकार



जन्म प्रमाणपत्र

भारत में कानून के अधीन यह अनिवार्य है। (जन्‍म और मृत्‍यु अधिनियम, 1969 के पंजीकरण के अनुसार) प्रत्‍येक जन्‍म/मृत प्रसव का पंजीकरण संबंधित राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत्र की सरकार में होने के 21 दिन अंदर किया जाए। तदनुसार सरकार ने केन्‍द्र में यहा पंजीयक के पास पंजीकरण के लिए और राज्‍यों में मुख्‍य पंजीयक, और गांवों में जिला पंजीयकों द्वारा एवं नगर में परिसर में पंजीकरण के लिए सुपारिभाषित प्रणाली की व्‍यवस्‍था की है।

जन्म प्रमाणपत्र के लिए कानून

जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र ,1969 के मुताबिक हर जन्म और मृत्यु प्रसव का पंजीकरण संबंधित राज्य या संघ राज्य क्षेत्र की सरकार में होने के 21 दिन के अंदर करें ।

महापंजीयक- केंद्र में जन्म और मृत्यु प्रसव का पंजीकरण का काम करता है ।

मुख्य पंजीयक- राज्यों में जन्म और मृत्यु प्रसव का पंजीकरण का काम करता है ।

जिला पंजीयक- गांवों में जन्म और मृत्यु प्रसव का पंजीकरण का काम करता है ।

पंजीयक परिसर- नगरों में जन्म और मृत्यु प्रसव का पंजीकरण का करता है ।

जन्म प्रमाणपत्र की प्रक्रिया

  • जन्म का पंजीकरण कराएं।
  • कानून द्वारा निर्धारित प्रपत्र भरकर 21 दिन के भीतर संबंधित स्थानीय प्राधिकारी के पास जमा कराएं।
  • प्रपत्र के जमा करने के बाद संबंधित अस्पताल के वास्तविक रिकार्ड के सत्यापन के बाद जन्म प्रमाणपत्र जारी  कर दिया  जाता है।
  • अगर 21 दिन के भीतर जन्म पंजीकृत नहीं किया जाता है, तो राजस्व अधिकारी के आदेश पर पुलिस के द्वारा सत्यापन के बाद प्रमाणपत्र जारी कर दिया जाता है ।

संलग्नक सूची- 

  1. पहचान से सम्बंधित निर्वाचन आयोग द्वारा जारी वोटर कार्ड/पैन कार्ड /ड्राइविंग लाइसेन्स/राष्ट्रीयकृत बैंक की फोटो युक्त पासबुक/राशन कार्ड/स्वप्रमाणित घोषणा पत्र से कोई एक की प्रमाणित प्रति प्रस्तुत करना होगा।
  2. चिकित्सालय का जन्म /मृत्यु प्रमाण पत्र  
  3. जहाँ पर चिकित्सालय नहीं है अथवा चिकित्सालय होते हुए भी चिकित्सालय में बच्चे का जन्म/मृत्यु नहीं हुई है, ऐसी दशा में आवेदक को जन्म/मृत्यु प्रमाण पत्र के सम्बन्ध में ग्राम प्रधान/क्षेत्रीय पार्षद/सांसद /एम .बी, बी. एस. डॉक्टर में से किसी एक का हस्ताक्षर एवं मोहर सहित प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

जन्म प्रमाणपत्र की प्राप्ति- 

  • यदि आपके शिशु का जन्‍म शासकीय हॉस्‍पिटल में होता है तो प्रभारी चिकित्‍सा अधिकारी जन्‍म प्रमाण जारी करते हैं हॉस्‍पिटल से डिर्स्‍चाज होते समय शिशु के माता या पिता अपने शिशु का जन्‍म प्रमाण पत्र हॉस्‍पिटल से ही आवश्‍यकरूप से प्राप्‍त करेंयह प्रमाण पत्र 1 से 21 दिन की अवधि में जारी हो जाता है I
  • यदि आपके शिशु का जन्‍म प्रायवेट हॉस्‍पिटल में हुआ हो तो शिशु के माता पिताआवेदन निर्धारित प्रारूप में शिशु के जन्‍म के 21 दिन के अंदर हॉस्‍पिटल के डिस्चार्ज सर्टिफिकेट सहित सम्‍बन्‍धित जनमित्र केन्‍द्र या लोक सेवा केन्‍द्र पर जमा करेंसम्‍बन्‍धित नगर निगम या नगर पंचायत या जनपद पंचायत द्वारा जन्‍म प्रमाण पत्र जारी किया जाता हैI
और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य