आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

ग्राम सभा को अधिकार



  • सार्वजनिक संपत्तियों की रक्षा करती है।
  • लाभार्थियों का चयन करती है।
  • जनसुनवाई के माध्यम से पारदर्शिता एवं जवाबदेही लाती है।
  • समाज के सभी वर्गों मे मेल-जोल व एकता बढ़ाने का करती है।
  • प्रौढ़ शिक्षा का कार्यक्रम की व्यवस्था करती है।
  • अन्य मामले जो पहले से तय हों (जैसे परिवार कल्याणपर्यावरण सुधार,टिकाकरण)

 राज्यों में ग्राम सभा की स्थिति-

  • बिहारअसममध्य प्रदेश में चार बार ग्रामसभा आयोजित करने का प्रावधान है।
  • गुजरात एवं महाराष्ट्र में वर्ष में दो बार ग्रामसभा करने का प्रावधान है।
  • गुजरात में ग्रामसभा लेखा-जोखा पर विचार करेगी एवं सुझाव देगीलेकिन ग्राम पंचायत के लिए इसे मानना बाध्यकारी नहीं है।
  • इस रूप में गुजरात सहित हरियाणापंजाब और हिमाचल प्रदेश के पंचायत अधिनियम प्रगतिशील नहीं माने जा सकते।
  • मध्यप्रदेश में ग्रामसभा सचिव द्वारा बुलाई जाती है।
  • बिहार में ग्रामसभा की बैठक की सूचना पन्द्रह दिन पहले नोटिस चिपका कर,डुगडुगी बजवाकरव्यक्तिगत संपर्क के आधार पर दिए जाने का प्रावधान है। बच्चों को उसके स्कूल में सूचना दी जाएगीताकि वे अपने अभिवावकों को ग्रामसभा की सूचना दे सकें।
  • ग्रामसभा की बैठक का कोरम कुल सदस्य के 20 वें भाग से होगा। पूरा नहीं होने पर बाद में 40वें भाग से भी कोरम पूर्ति की अनुमति दी गई है।
  • प्रदेश में तीन महीने के अंतराल पर ग्रामसभा आयोजित किए जाने का प्रावधान है।
  • बिहार एवं आंध्रप्रदेश के प्रत्येक गांव में ग्रामसभा का प्रावधान है। 
  • दरबार बैठक के लिए 5वें भाग की उपस्थिति आवश्यक नहीं होती है।

 

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य