आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

सभी नागरिकों को आयकर का अधिकार



आयकर का अर्थ 

आय पर सरकार को एक वित्तीय वर्ष ( अप्रैल -मार्च) के अंदर  भुगतान किया जाने वाला प्रत्यक्ष कर।

आयकर दाखिल करने योग्य लोग 

  1. जिस व्यक्ति की वार्षिक  आय पिछले वित्तवर्ष में उस वर्ष के लिए निर्धारित आयकर की न्यूनतम सीमा से अधिक है , उसके लिए आयकर रिटर्न दाखिल करना जरुरी है ।
  2. आयकर की धारा 139(1) के तहत अब यदि कोई व्यक्ति निम्नलिखित छह शर्तों में से कोई एक पूरा  करता हो तब उसे आयकर भरना होगा। 
  • वाहन का स्वामी हो
  • एक अचल संपत्ति के निर्दिष्ट तल क्षेत्रफल का मालिक हो
  • अपने या किसी अन्य व्यक्ति के लिए विदेश यात्रा का खर्च उठाता हो
  • एक टेलीफोन का इस्तेमाल करता हो
  • क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करता हो
  • क्लब का सदस्य हो
  1. इसके अलावा जो व्यक्ति ज्यादा भरे गये आयकर की वापसी , कारोबार में उठाए गए नुकसान को अगले वर्ष के हिसाब में शामिल करने अथवा आयकर कानून के तहत कोई लाभ या रियायत चाहता है उसे भी आयकर रिटर्न भरना होगा। 
  2. जिस व्यक्ति के पास एक निश्चित सीमा में अचल संपत्ति , गाड़ी , टेलीफोन या क्रेडिट कार्ड है या जिसने विदेश यात्रा पर पैसे खर्च किए हैं या जो किसी ऐसे क्लब का सदस्य है , जिसकी सदस्यता शुल्क 25,000 रुपए से अधिक है, उसे भी रिटर्न भरना होगा । 

आयकर देर से भरना या नहीं भरना  

  • अगर आयकर निर्धारित तारीख से देर में जमा की जाती है तो निर्धारित तिथि से जमा करने की वास्तविक तिथि के बीच की अवधि में हर महीने निर्धारित ब्याज लिया जाता है ।
  • अगर करदाता आयकर भरता नहीं है तो आयकर विभाग स्वयं उसके द्वारा देय कर का एकतरफा निर्धारण कर लेता है औऱ देय तिथि तथा कर-निर्धारण के बीच की अवधि का ब्याज भी करदाता से वसूला जाता है । 
  • आयकर अधिनियम में ब्याज माफ कर दिए जाने अथवा ब्याज दर घटा दिए जाने का कोई प्रावधान नहीं है । केवल अपील या संशोधन के दौरान कर की राशि कम होने पर ही ब्याज कम हो सकता है। 

आयकर रिटर्न फॉर्म 

  • करदाता अपेक्षित प्रपत्रों- आईटीआर 1, आईटीआर 2,आईटीआर 3 या आईटीआर 4 को भरकर अपनी विवरिणयां जमा कर सकते हैं 
  • वेतन , पेंशन, पारिवारिक पेंशन और ब्याज से  आय प्राप्त करने वाले लोगों के लिए नया आयकर रिटर्न फॉर्म सरल
  • व्यक्तियों, हिंदू अविभाजित परिवारों के लिए जिनके पास व्यापार या व्यवसाय से आय नहीं है वो आयकर विवरणी प्रपत्र 2 भरें।  
  • व्यक्तियों, हिंदू अविभाजित परिवारों के लिए जो फर्मों में भागीदार हैं औऱ व्यापार या स्वामित्व के अधीन किसी व्यवसाय में संलग्न नहीं हैं वो आयकर विवरणी प्रपत्र 3 भरें।

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य