आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

भारतीय साइबर कानून



साइबर अपराध क्या है?

साइबर अपराध एक ऐसा गैरकानूनी काम है, जिसमें कंप्यूटर को हथियार की तरह इस्तेमाल किया जाता है और इस काम का निशाना भी दूसरे कंप्यूटर होते हैं। यह मुख्य रूप से सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम के प्रावधानों का उल्लघंन है।  

  1. दीवानी के मामले(साइबर उल्लंघन)- 

इसमें आप नुकसान पहुँचाने वाले व्यक्ति से हर्जाना प्राप्त कर सकते हैं। यह मुकदमे सिविल न्यायालयों  में नही चलते। इन मुकदमों को तय करने के लिए एक अलग से न्याय निर्णायक अधिकारी (Adjudicating Officer) नियुक्त किया जाता है। इस समय राज्यों में इंफॉरमेशन तकनीक का सक्रेटरी ही यह अधिकारी है। इनके फैसले के खिलाफ अपील साइबर ट्रियूब्नल में होती है। उसके बाद इनकी अपील हाई कोर्ट में दाखिल की जा सकती है।

  • सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 के अंतर्गत धाार 43 (A) से (J) में प्रावधान किया गया है।
  • प्राथमिक स्तर पर किसी कंप्यूटर प्रणाली/कंप्यूटर संसाधन/कंप्यूटर नेटवर्क/ तक अनधिकृत रुप से पहुंच बनाना।
  • कानून का उल्लंघन करने वाले को सिविल अभियोजन का सामना करना पड़ेगा।
  • दोषी को न्यायालय द्वारा निर्धारित नुकसान या मुआवजा पीड़िता या पीड़ित को देना पड़ेगा।
  • न्याय प्रक्रिया न्याय निर्णायक अधिकारी के समक्ष होती है ।
  • मामले में अन्वेषण का अधिकार नियंत्रक या उसके द्वारा प्राधिकृत व्यक्ति को प्राप्त होता है।
  1. फौजदारी के मामले(साइबर अपराध)- 

इसमें साइबर कानून का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति को सजा हो सकती है। इसका मुकदमा फौजदारी अदालतों में ही चलता है । इस मामले में आरोपी के खिलाफ पुलिस में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करानी पड़ती है। 

  • सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 65 से 74 तक प्रावधान दिया गया है।
  • यह कंप्यूटर प्रणाली/कंप्यूटर संसाधन/कंप्यूटर नेटवर्क/  संबंधी साइबर अपराध से संबंधित होता है।
  • अपराध करने वाला  आपराधिक अभियोजन का सामना करेगा।
  • अपराध करने वाले को न्यायालय द्वारा कारावास तथा जुर्माना दोनों दिया जा सकता है।
  • अपराध की प्रकृति को देखते हुए सक्षम न्यायालय द्वारा फैसला लिया जाता है।
  • इस मामले में अन्वेषण का अधिकार पुलिस इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी को प्राप्त है।

साइबर अपराध के प्रकार-

  1. साइबर अपराध (सिविल)-
  • साइबर मानहानि
  •  साइबर स्कैटिंग
  • कॉपीराइट का उल्लंघन
  • डिटाइऩ का उल्लंघन
  • साफ्टवेयर पायरेसी 

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य