आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

भारतीय साइबर कानून



  1. साइबर अपराध(क्रिमिनल)-
  • साइबर स्टाकिंग
  • साइबर पोर्नोग्राफी
  • चाइल्ड पोर्नोग्राफी
  • धमकी का संदेश भेजना
  • कंप्यूटर में अनाधिकृत प्रवेश
  • विद्वेषपूर्ण प्रोग्राम भेजना
  • सेवा से इनकार
  • नेटवर्क कपट(चीटिंग)
  • वाइरस भेजना
  • साइबर आतंकवाद
  • साइबर जुआ
  • साइबर मनी लॉउड्रिंग
  • क्रेडिट कार्ड कपट(चीटिंग)
  • सूचना की चोरी

1. वेबसाइट हैकिंग 

  •  किसी के कम्प्यूटर सिस्टम में गैरकानूनी तरीके से घुसपैठ करना हैकिंग कहलाता है। इस अपराध को करने वाले को हैकर कहते हैं। हैकर अपने लक्षित कम्प्यूटर पर रेडीमेड प्रोग्राम के द्वारा अटैक करते हैं। हैकर इसके द्वारा अनाधिकृत रुप से कंप्यूटर, डिवाइस, इनफॉर्मेशन सिस्टम या नेटवर्क में घुसपैठ करके डेटा से छेड़छाड़ करते हैं और सूचनायें चुराते हैं। हालांकि यह जरुरी नहीं है कि ऐसी हैकिंग के नतीजे में उस सिस्टम को नुकसान ही पहुंचा हो। अगर कोई नुकसान नहीं भी हुआ है, तो भी घुसपैठ करना साइबर क्राइम कहलाता है , जिसके लिए सजा का प्रावधान है ।  

वेबसाइट हैकिंग पर कानून

  • आईटी (संशोधन) एक्ट 2008 की धारा 43 (ए)धारा 66, आईपीसी की धारा 379और 406 के तहत कार्रवाई हो सकती है।
  • वेबसाइट हैकिंग का अपराध साबित होने पर तीन साल तक की जेल और/या पांच लाख रुपये तक जुर्माना हो सकता है। 

2. साइबर स्टाकिंग-

  • इंटरनेट पर किसी व्यक्ति का पीछा करना और उसके बुलेटिन बोर्ड पर संदेश भेजना और उसके चैट रूम में घुस जाना साइबर स्टाकिंग कहलाता है। इसके तहत साइबर अपराधी लक्षित व्यक्ति को कॉल या मैसेज आदि करके लगातार परेशान करते हैं । और धमकियां देते हैं। इनका मुख्य उद्देश्य संबंधित व्यक्ति से धन प्राप्त करना होता है । 

साइबर स्टाकिंग पर कानून-

  • आईटी (संशोधन) कानून 2009 की धारा 66 (ए) के तहत दोषी के खिलाफ कार्रवाई हो सकती है। 
  • साइबर स्टाकिंग का दोषी पाए जाने पर तीन साल तक की जेल और/या जुर्माना हो सकता है। 

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य