आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

मरीजों के अधिकार



स्वास्थ्य सुरक्षा क्या है?

स्वास्थ्य सुरक्षा सामाजिक-चिकित्सा धारण है । यह केवल मेडिकल नहीं है । इसलिए स्वास्थ्य सुरक्षा केवल बीमारी के समय इलाज तक सीमित नहीं है। इसका मतलब है जहां तक हो सके मरीज के शारीरिक , मानसिक तथा कल्याण को बढ़ावा मिल सके।

स्वास्थ्य का अधिकार मौलिक अधिकार

उच्चतम न्यायालय के फैसले के अनुसार स्वास्थ्य का अधिकार मौलिक अधिकार है , क्योंकि इसकी उत्पत्ति अनुच्छेद 21 में दिए गए जीने के अधिकार से होती है ।

स्वास्थ्य का अधिकार मानवअधिकार

1948 का मानवधिकार घोषाणपत्र का अनुच्छेद 21 यहा सुनिश्चित करता है कि हर एक को ऐसे मापदण्ड के साथ जीने का अधिकार है जो उसके तथा उसके परिवार स्वास्थ्य और कल्याण के लिए पर्याप्त हों, जिसमें चिकित्सा अवधान तथा जरुरी समाज की सेवाएं एवं बीमारी , अपंगता, वृद्धावस्था आदि से संबंधित सुरक्षा का अधिकार शामिल हैं ।

मरीजों के अधिकार

  1. स्वास्थ्य सावधानी तथा मानव उपचार का अधिकार
  • हर व्यक्ति को बिना धर्म, जाति , लिंग , आयु, वंश राजनीतिक संबंध, आर्थिक स्तर के भेदभाव के सशक्त स्वास्थ्य सावधानी एंव उपचार का अधिकार है।
  • यह सुनिश्चित करना सरकार की जिम्मेदारी है कि सब को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ प्राप्त है।
  • हर मरीज का इलाज सावधानी, मर्यादा एवं इज्जत के साथ किया जाना चाहिए।
  • सभी दवाइयों जो मरीज को दी जाती है वह स्तर, फायदा, योग्य सुरक्षा के मापदण्ड पर खरी होनी चाहिए।
  • हर मरीज को आपातकालीन इलाज की सुविधा का अधिकार है ।
  • जब कोई बच्चा अस्पताल में दाखिल होता है तो उसे यह अधिकार है कि उसके साथ माता-पिता या अभिभावक रह सके।
  • मरीजों की जांच सम्मानित तरीके से की जानी चाहिए।

      2.   मनपसंद सुविधा का अधिकार

  • मरीज को किसी भी समय दोबारा सोचने का अधिकार है।
  • मरीज को अपने इलाज का मेडिकल रिकार्ड लेने का अधिकार है । वह किसी अन्य व्यक्ति का लिखित रुप में इस रिकॉर्ड को लेने की जिम्मेदारी दे सकता है ।
  • जहां तक हो सके मरीज को अपनी पसंद के अस्पताल एवं डॉक्टर से इलाज कराने का अधिकार प्राप्त है।
  • मरीज को अपनी बीमारी के बारे में जानकारी मिलने के बाद यह अधिकार है कि वह इलाज करवाए या नहीं करवाए।
  • यदि मरीज किसी डॉक्टर के इलाज से संतुष्ट नहीं है तो वह डॉक्टर बदल सकता है ।

        

और अधिक पढ़ें  >>>

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य