आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

एसीबी के छापे में 10 करोड़ का मालिक निकला इंजीनियर

May 05, 2016

जामनगर (गुजरात)। महानगरपालिका के टीपीओ शाखा के उप कार्यपालक इंजीनयर जेवी सेदाणी के ठिकाने पर छापे के दौरान करीब 10 करोड़ से अधिक की संपत्ति का खुलासा हुआ है। एसीबी की टीम ने सेदाणी के महावीर सोसायटी, शीलभद्र के मकान और सेदाणी के वफादार बादल राजानी के मकान पर छापा मारा और उसे अपने कब्जे में ले लिया। खास बात यह है कि सौराष्ट्र में एक ही सरकारी कर्मचारी के पास इतनी बड़ी धनराशि मिलने का पहला मामला है। आपको बता दें कि हाल ही में जमयुको के कमिश्नर हर्षद पटेल ने जगदीश सेदाणी को पदच्युत किया था।

गौरतलब है कि सेदाणी के खिलाफ बेहिसाब संपत्ति बनाने को लेकर पहले से ही जांच चल रही थी। इस दौरान सेवाणी ने पत्नी, सभी संतानों और पिता के नाम पर जमीन, प्लॉट और बैंक बैलेंस, वाहन आदि का हवाला दिया था। जिसकी कीमत करीब ढाई करोड़ रुपए का अनुमान लगाया गया था। जिसके बाद मंगलवार को पीआई एचपीदोशी ने सरकार की ओर से फरियादी बनकर जमानगर एंटी करप्शन ब्यूरो पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करायी। हालांकि अब आयकर विभाग सेदाणी तथा उनके परिवारवालों के द्वारा 65 लोगों से लिए गए 3 करोड़ 8 लाख 60 हजार रुपयों की जांच करेगा। जिसकी जानकारी किसी को नहीं दी गयी थी। इस जांच के दायरे में वह लोग भी आएंगे जिन्होंने सेदाणी और उनके परिवार को धनराशि दी है।

एसीबी की जांच में खुलासा हुआ है कि सेदाणी ने अपनी पुत्री की शादी में बेहिसाब पैसा खर्च किया था। और दो बार यूरोप की यात्री की। इसके अलावा अपने पुत्र की पढ़ाई में 25 लाख रुपए खर्च किए। जिसके सारे विवरण मंगवाए गए हैं। सेदाणी के खिलाफ सबसे पहले 2006 में जामनगर एसीबी ने बेहिसाब संपत्ति रखने के संबंध में अपराध कायम किया था। इतना ही नहीं 2008 में पंचकोशी-बी डिवीजन पुलिस स्टेशन में सेदाणी के खिलाफ जुआघर चलाने का अपराध कायम किया गया था। दोनों मामले अभी अदालत में चल रहे हैं।

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य