आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

कोल इंडिया में विवाहित पुत्री को अनुकंपा नियुक्ति

Apr 04, 2016

बिलासपुर (छत्तीसगढ़)। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट अनुकंपा नियुक्त के मामले में एतिहासिक फैसला सुनाया है। हाईकोर्ट का कहना है कि पुत्री को अनुंकपा नियुक्ति से वंचित करना किसी भी नागरिक को विवाह करने से रोकना है। जो बिल्कुल गलत है। हाईकोर्ट ने साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड को आदेश दिया है कि वह याचिकाकर्ता महिला को उसकी योग्यता के अनुसार नियुक्ति प्रदान करे।

याचिकाकर्ता के वकील अजय श्रीवास्तव का कहना है कि महिला के पिता श्याम सुंदर शर्मा झरिया माइंस में क्लर्क के पद पर कार्यरत थे, इसी दौरान 8 फरवरी 2014 को उनका निधन हो गया। जब महिला आशा पांडेय ने झरिया माइंस में अनुकंपा नियुक्ति का आवेदन दिया तो उसने विवाहित होने के कारण राष्ट्रीय कोयला वेतन समझौते का हवाला देते हुए आवेदन निरस्त कर दिया। जिसके बाद महिला ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर विवाहित पुत्री को अनुकंपा नियुक्त नहीं देने की कार्यवाही को अनुच्छे 14 और अनुच्छेद 15 के खिलाफ बताया। इस मामले की सुनवाई के बाद न्यायमूर्ति संजय कुमार अग्रवाल की एकल पीठ ने साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड को याचिकाकर्ता के आवेदन पर 45 दिनों के अंदर नियुक्त देने का आदेश दिया।

वहीं कंपनी का कहना है कि याचिकाकर्ता को इसलिए अनुकंपा नियुक्ति नहीं दी जा रही थी कि क्योंकि कोल इंडिया कर्मचारी संगठनों के बीच हुए राष्ट्रीय वेतन समझौते में  विवाहित पुत्री को अनुकंपा नियुक्ति का पात्र नहीं माना गया है। लेकिन अब हाईकोर्ट ने अपने आदेश में इसे शून्य घोषित कर दिया है।

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य