आपका अधिकार

Diyaa



Diyaa
अगर आपके आस-पास अधिकार के लिए कोई अच्छा काम कर रहा है या फिर अधिकार का उल्लंघन कर रहा है, जिसे आप लोगों तक पहुंचाना चाहते हैं, तो आप अपनी रिपोर्ट- info.adhikarexpress@gmail.com पर हमें भेजें |

अब पेस्टीसाइट बनाने के लिए डिग्री हुई अनिवार्य

Feb 21, 2016

शिमला । एग्रीकल्चर एंड फार्मर वेलफेयर मंत्रालय की नई गाइड़ लाइंस के तहत पेस्टीसाइड निर्माताओं व विक्रेताओं को लाइसेंस देने के लिए डिग्री की अनिवार्यता होगी। ऐसे में बीएससी उत्तीर्ण बेरोजगारों को दुकानों में रोजगार मिल सकेगा, तो वहीं किसानों को भी अच्छी दवाईयां मिल सकेगी। केन्द्र सरकार के इन नए मापदण्ड को जो पूरा करेगा अब सिर्फ वही कीटनाशक व उवर्रक की बिक्री करने योग्य होगा। जहा एक तरफ यह फैसला किसानों के हित में है, वही दूसरी तरफ इसे जुड़े बड़े कारोबारियों के लिए नइ समस्या खड़ी हो गई। इस अधिसूचना को जारी करते वक्त एग्रीकल्चर एंड फार्मर वेलफेयर मंत्रालय के मुताबिक इसके लिए एग्रीकल्चर साइंस, बायोकेमिस्ट्री, लाइफ साइंस, केमेस्ट्री विद साइंस, बॉटनी, जूलॉजी में एक डिग्री अनिवार्य कर दी है। पेस्टीसाइड का निर्माण करने वालों के पास एमएससी केमिस्ट्री विद डायरेक्टर, ग्रेजुएट विद केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री अनिवार्य होगी। वर्तमान में जो लोग पेस्टीसाइड बनाने या बेचने का काम कर रहे हैं, उन्हें विभाग की ओर नवंबर 2017 तक की छूट मिली है। इस अवधि में वह या तो डिग्री हासिल कर ले या फिर दो साल बाद उनके लाइसेंस को रिन्यू नहीं किया जाएगा। यह छूट 5 नवंबर 2017 तक लागू रहेगी। इसके बाद बिना डिग्री वाले दुकानदारों को मुश्किलें हो सकती हैं

अधिकार के हीरो

जनमत

फोटो गैलरी

वीडियो

अन्य