Main Menu

मायावती का करीबी अधिकारी निकला अरबपति !

मायावती का करीबी अधिकारी निकला अरबपति !

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के प्रमुख सचिव रहे आईएएस अधिकारी नेतराम और उनके करीबियों के ठिकानों पर छापेमारी में अब तक 225 करोड़ रुपये की संपत्तियों का खुलासा हुआ है। इनमें लखनऊ, दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में प्रॉपर्टी, कई कंपनियों के दस्तावेज,  बेनामी लग्जरी कारें और 50 लाख रुपये का मो ब्ला पेन जैसी संपत्तियां शामिल हैं। इसके अलावा करोड़ों की अघोषित संपत्तियों के दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। नेतराम बसपा से लोक सभा का चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे। 

इनकम टैक्स विभाग की टीमों ने सोमवार सुबह एक साथ दिल्ली, मुंबई और कोलकाता से लेकर लखनऊ तक के उनके दर्जन भर ठिकानों पर छापेमारी की। बताया जा रहा है कि आयकर विभाग द्वारा मुंबई की एक कंपनी पर हुई कार्रवाई के दौरान नेतराम से तार जुड़ने पर यह कार्रवाई की गयी। नेतराम के अमीनाबाद स्थित मशहूर कपड़ा शोरूम गाढ़ा भंडार के मालिक विष्णु वल्लभ रस्तोगी समेत अन्य कारोबारियों से गहरे ताल्लुकात मिले हैं। आयकर विभाग ने नेतराम के लखनऊ के चारबाग स्टेशन रोड के निकट चिंटल हाउस और गोमती नगर के विशाल खंड तीन में 3/175 पर छापा मारा, जहां से 18 लाख रुपए नगद मिले। आयकर विभाग के सूत्रों के अनुसार, नेतराम ने 95 करोड़ रुपये की फर्जी शेयर कैपिटल के जरिये छह प्रॉपर्टी खरीदी, जिनमें से एक दिल्ली की लुटियंस जोन में केजी मार्ग और दूसरी दक्षिण दिल्ली के पॉश इलाके जीके-1 में स्थित है। जीके-1 स्थित मकान से 86 लाख रुपये और उनसे जुड़े एक व्यक्ति से 60 लाख रुपये नकद मिले हैं। इसके अलावा 50 लाख रुपये एक लॉकर में रखे होने की सूचना भी मिली है। उनकी एक संपत्ति मुंबई और तीन कोलकाता में हैं। इसके अलावा 225 करोड़ रुपये की अतिरिक्त प्रॉपर्टी से संबंधित दस्तावेज भी मिले हैं। लखनऊ के विपुलखण्ड के एसबीआई शाखा में नेतराम के दो और उनके परिवार की सदस्य पूनम के एकाउंट सीज किए गए हैं। 

इतना ही नहीं नेतराम की 30 मुखौटा कंपनियां थीं, जिसमें उनके करीबी रिश्तेदार शेयरधारक और निदेशक थे। उन्होंने अपने रिश्तेदारों को इन कंपनियों के शेयर उपहार में दिए थे। उनके बच्चे इन कंपनियों के बैंक खातों का परिचालन करते थे। नेतराम ने इन कंपनियों के माध्यम से कोलकाता के हवाला ऑपरेटरों के माध्यम से 95 करोड़ रुपये की एंट्री भी ली थीं। कालेधन को सफेद करने के बाद इसी राशि से बाद में प्रॉपर्टी खरीदीं। इसके अलावा कई हाथ से लिखी हुईं डायरियां मिली हैं, जिनमें लिखा है कि किस तरह मुखौटा कंपनियां खरीदी गईं और प्रॉपर्टी में निवेश किया गया। छापेमारी के दौरान नेतराम के ठिकानों से चार बेनामी लग्जरी कारें मिली हैं, जिनमें एक मर्सिडीज और दो फार्चूनर भी शामिल हैं। इसके अलावा 50 लाख रुपये कीमत का मोंट ब्लांक पैन भी मिला है। हालांकि टैक्स चोरी के मामले में फंसे नेतराम पर अभी और शिकंजा कसा जा सकता है। इनकम टैक्स की तफ्तीश के बाद कई अन्य केंद्रीय जांच एजेंसी भी कार्रवाई कर सकती हैं।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें लिखें।

विज्ञापन

हमारा आर्थिक सहयोग करें

लोकसेवा अधिकारों को सरकारी व कॉरपोरेट दबावों से बचाने और भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को जीवित रखने के लिए हमारा साथ दें। आर्थिक सहयोग करें: ♦ Rs.100 - Rs 9999.

Adhikar Express Foundation, Account No. 50200033861180, Branch: Amar Colony, Lajpat Nagar IV, New Delhi-24,  RTGS/NEFT/IFSC Code : HDFC0001409                                                ई-मेल: adhikarexpress@gmail.com

हर नागरिक का मौलिक कर्तव्य 

(क) संविधान का पालन करें और उसके आदर्शों, राष्ट्र ध्वज और राष्ट्र्गान का आदर करें। 

(ख) स्वतंत्रता के लिए हमारे राष्ट्रीय आन्दोलन प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शो को हृदय में संजोए रखें व उनका पालन करें।

(ग) भारत की प्रभुता एकता व अखंडता की रक्षा करें और उसे अक्षुण्ण बनाये रखें। 

(घ) देश की रक्षा करें और आवाह्न किए जाने पर राष्ट् की सेवा करें। 

(ङ) भारत के सभी लोग समरसता और सम्मान एवं भ्रातृत्व की भावना का निर्माण करें जो धर्म, भाषा और प्रदेश या वर्ग के भेदभाव पर आधारित न हों, उन सभी प्रथाओं का त्याग करें जो महिलाओं के सम्मान के विरुद्ध हों।

(च) हमारी सामाजिक संस्कृति की गौरवशाली परम्परा का महत्त्व समझें और उसका परिरक्षण करें। 

(छ) प्राकृतिक पर्यावरण जिसके अंतर्गत वन, झील,नदी वन्य प्राणी आदि आते हैं की रक्षा व संवर्धन करें तथा प्राणी मात्र के प्रति दयाभाव रखें।

(ज) वैज्ञानिक दृष्टिकोण मानवतावाद व ज्ञानार्जन तथा सुधार की भावना का विकास करें । 

(झ) सार्वजनिक सम्पत्ति को सुरक्षित रखें व हिंसा से दूर रहें। 

(ञ) व्यक्तिगत और सामूहिक गतिविधियों के सभी क्षेत्रों में सतत उत्कर्ष की ओर बढ़ने का प्रयास करें, जिससे राष्ट्र प्रगति करते हुए प्रयात्न और उपलब्धि की नई ऊँचाइयों को छू ले।

(ट) यदि आप माता-पिता या संरक्षक हैं तो 6 वर्ष से 14 वर्ष आयु वाले अपने या प्रतिपाल्य (यथास्थिति) बच्चे को शिक्षा के अवसर प्रदान करें।