Main Menu

अधिकारी के ठिकानों से करोड़ों की संपत्ति का खुलासा

अधिकारी के ठिकानों से करोड़ों की संपत्ति का खुलासा

ग्वालियर (मध्य प्रदेश)। लोकायुक्त पुलिस के छापे में प्रदेश का एक और अधिकारी करोड़ों का आसामी निकला । छापेमारी में महिला बाल विकास अधिकारी के घर से करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हुआ है। ग्वालियर लोकायुक्त पुलिस की इस कार्रवाई में सहायक ग्रेड-तीन अधिकारी ध्रुव सिंह भदौरिया के ग्वालियर और भिंड सहित तीन ठिकानों से 6 लाख रुपए कैश, दो डुप्लेक्स, दो प्लॉट और गहने का पता चला है।

ग्वालियर लोकायुक्त पुलिस को सहायक ग्रेड-तीन अधिकारी ध्रुव सिंह भदौरिया खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की शिकायत मिली थी । इस मामले की शिकायत की जांच के बाद लोकायुक्त की दो टीमों ने शुक्रवार सुबह से ध्रुव सिंह भदौरिया के ग्वालियर और भिंड के ठिकानों पर कार्रवाई शुरू की। लोकायुक्त पुलिस ने ग्वालियर के शताब्दीपुरम स्थित उनके घर और भिंड दोनों जगह पर छापे मारे । इस छापेमारी में बड़ी संख्या अवैध संपत्ति का पता चला है। इस अवैध संपत्ति में 6 लाख रुपए नकद, दो डुप्लेक्स, दो प्लॉट और गहने का खुलासा हुआ है। एसपी अमित सिंह और डीएसपी प्रद्युम्न पाराशर के नेतृत्व में ग्वालियर में लोकायुक्त टीम ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया। जबकि दूसरी टीम ने भिण्ड के ठिकाने पर छापा मारा।

आपको बता दें कि सहायक ग्रेड-तीन अधिकारी ध्रुव सिंह भदौरिया भिंड जिले में पदस्थ है। ध्रुव सिंह भदौरिया की नियुक्ति पहले चतुर्थ श्रेणी में हुई थी। हालांकि अभी वह महिला बाल विकास विभाग में सहायक ग्रेड 2 के पद पर पदस्थ है। वर्तमान में इसका वेतन 35 हजार रुपए है। लोकायुक्त पुलिस का अनुमान है कि वेतन के हिसाब से ध्रुव सिंह भदौरिया की संपत्ति वर्तमान में तीस लाख होनी चाहिए। इसलिए ऐसा लगता है कि उसने ये संपत्ति भ्रष्ट तरीके से इकट्ठा की है।

 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसीलिए अधिकार एक्सप्रेस में हमने लोकसेवा अधिकारों की जानकारी देने और संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)