Main Menu

एसबीआई में लंबी लाइन लगाने से मिला छुटकारा

एसबीआई में लंबी लाइन लगाने से मिला छुटकारा

नई दिल्ली। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में किसी काम के लिए लाइन लगाना अब पुराने जमाने की बात हो जाएगी। बैंक की नई पहल के मुताबिक आप अपना एंड्राइड फोन उठाइए और 'नो क्यू' मोबाइल एप से बैंक में नंबर लगाइए और लंबी लाइन की परेशानी से निश्चिंत हो जाइये। नंबर लगाते ही आपको एक ई-टोकन मिलेगा। आप ई-टोकन में दिए गए समय के अनुसार बैंक में जाइए और तुंरत ही अपना काम निपटाकर घर चले आइए। एसबीआई प्रबंधन का कहना है कि पहले चरण में इसे बड़ी शाखाओं में लागू किया गया है। इनके प्रदर्शन के बाद सभी शाखाओं को इसमें शामिल कर लिया जाएगा। एसबीआइ के उप महाप्रबंधक संदीप मिश्रा का कहना है कि ग्राहकों की सुविधा के लिए बैंक की लॉबी में ऑडियो-वीडियो की भी व्यवस्था की गयी है। 

आपको बता दें कि एसबीआई द्वारा शुरु किए गए इस 'नो क्यू' मोबाइल एप से 18 सेवाओं को जोड़ा गया है। जिसमें धनराशि निकालना, जमा करना व चेक जमा करने के अलावा कई और कार्य शामिल हैं। हालांकि सीनियर सिटीजन को नंबर लगाने के बाद भी विशेष प्राथमिकता दी जाएगी। 

एसबीआई के इस मोबाइल एप को डाउनलोड करने के लिए आपको गूगल प्ले स्टोर में जाना होगा। जैसे ही गूगल प्ले स्टोर में आप इसे ओपेन करेंगे वैसे ही आपको बैंक की शाखाओं की सूची दिखायी देगी। आप यहां पर अपनी शाखा को सेलेक्ट कर नंबर लगा दीजिए। कुछ देर बाद आपके मोबाइल पर ई-टोकन दिखाई देगा। इसके साथ ही आपको यह भी दिखाई देगा कि आपको शाखा पर किस समय पहुंचना है। आप निश्चित समय पर बैंक पहुंच कर निर्धारित काउंटर पर ई-टोकन दिखाकर लेन-देन का काम मिनटों निपटाकर आप घर वापस आ सकते हैं। इस सुविधा का हर व्यक्ति को लाभ उठाना चाहिए, जो लोग एंड्राइड मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसीलिए अधिकार एक्सप्रेस में हमने लोकसेवा अधिकारों की जानकारी देने और संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)