Main Menu

"रोड किसी के बाप की नहीं होती": अभिनेता अक्षय कुमार

"रोड किसी के बाप की नहीं होती": अभिनेता अक्षय कुमार

नई दिल्ली। बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार नए अवतार में देश के सामने आने वाले हैं। अक्षय कुमार ने मंगलवार को दिल्ली के ली मैरेडियन होटल में केंद्रीय सड़क परिवहन एंव राजमार्ग मंत्री नीतिन गड़करी के साथ 'सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा' जागरूकता अभियान की शुरूआत की है। केंद्रीय सड़क परिवहन एंव राजमार्ग मंत्रालय ने इस अभियान के लिए अक्षय कुमार को ब्रांड एम्बेसडर बनाया है। अक्षय कुमार लोगों में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरुकता पैदा करेंगे। सरकार का मकसद देश में सड़क दुर्घटनाओं में मृ़तकों की बढ़ती संख्या में कमी लाना है और 14 अगस्त को इस कैम्पेन का नया वीडियो भी सामने आ चुका है।

'सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा' जागरूकता अभियान के उद्घाटन समारोह में नीतिन गड़करी और अक्षय कुमार ने 'सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा' अभियान के तहत बनाई गई तीनों लघु फिल्मों को रिलीज किया। तीनों लघु फिल्मों में अक्षय कुमार ने ट्रैफिक पुलिसकर्मी की भूमिका निभाई है। वीडियो में वह पुलिस की यूनिफार्म में अपने चिर-परिचित अंदाज में लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करते दिख रहे हैं। अक्षय कुमार ने ये वीडियो फेसबुक पर पोस्ट किया है। इस वीडियो में अक्षय मुंबई ट्रैफिक पुलिस के किरदार में नजर आ रहे हैं। उन्होंने वीडियो शेयर करते हुए रोड सेफ्टी के बारे में बताया और लिखा कि ''अपना और दूसरों का ख्याल रखे, क्योंकि रोड किसी के बाप की नहीं होती.'' इस वीडियो को देखकर आपको हंसी तो आएगी लेकिन एक अहम मैसेज भी मिलेगा। ट्रैफिक पुलिस बने अक्षय कुमार अलग अंदाज में लोगों को ट्रैफिक रूल तोड़ने पर सबक सिखा रहे हैं। अक्षय कुमार वीडियो में वह बिना हेलमेट पहने और बाइक पर ट्रिपलिंग करने वाले लड़के को अपने ही अंदाज में डांटते नजर आ रहे हैं। वहीं एक दूसरे वीडियो में गाड़ी में बिना सीटबेल्‍ट लगाए और फोन पर बात करने वाले शख्‍स को भी उसी स्‍टाइल में डांटते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो को काफी शेयर किया जा रहा है। इस वीडियो में अक्षय ने ना सिर्फ दमदार एक्टिंग की बल्कि अच्छा मैसेज भी दिया है। इस मौके पर नितिन गड़करी ने कहा कि हमारा लक्ष्य देश में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाना है। हमें उम्मीद है कि लोगों के पसंदीदा अभिनेता अक्षय कुमार के इस अभियान से जुड़ने के बाद सड़क सुरक्षा को लेकर जागरूकता बढ़ेगी। वहीं अक्षय कुमार का कहना है कि जैसे ही उन्हें हर वर्ष देश में होने वाले सड़क हादसों और उसके शिकार लोगों के आंकड़ों का पता चला वह हैरान रह गए। और उन्होंने तुरंत इस जागरूकता अभियान से जुड़ने का फैसला कर लिया।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसीलिए अधिकार एक्सप्रेस में हमने लोकसेवा अधिकारों की जानकारी देने और संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)