Main Menu

गूगल की गलती से जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर: UIDAI

गूगल की गलती से जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर: UIDAI

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने कई दिनों से टोल फ्री नंबर- 1800-300-1947 को लेकर देशभर में जारी भय के माहौल पर सफाई दी है। यूआईडीएआई ने कहा कि गूगल की एक गलती से उसका पुराना हेल्पलाइन नंबर 18003001947 कई मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं की कांटैक्ट सूची में आ गया था। इसी मौके का फायदा उठाकर अफवाह फैलाने वालों ने आधार की छवि खराब करने की कोशिश की। प्राधिकरण का कहना है कि किसी फोन के कांटैक्ट की सूची में दर्ज नंबर के जरिये उस फोन की सूचनाएं नहीं चुरायी जा सकती है। प्राधिकरण ने कहा कि वह ऐसे निहित स्वार्थी तत्वों की कोशिशों की ‘निंदा’ करता है। यदि लोग चाहें तो बिना डरे इस टोल फ्री नंबर- 1800-300-1947 को मिटा सकते हैं, क्योंकि इससे कोई नुकसान नहीं है। यदि लोग चाहें तो, वे उसकी जगह यूआईएडीआई के नये हेल्पलाइन नंबर 1947 को अपने स्मार्ट फोन में सेव कर सकते हैं।

आपको बता दें कि टोल फ्री नंबर- 1800-300-1947 के स्मार्ट फोन में अपने आप सेव होने को लेकर देशभर फैलाई गयी अफवाह का कारण फ्रांस के एक तथाकथित साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एल्डरसन को माना जा रहा है। इस साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ ने ट्विटर पर पिछले सप्ताह ट्वीट कर इस अफवाह को जन्म दिया था। उसने  आईडीएआई को संबोधित करते हुए इस ट्वीट में कहा था, ‘‘अलग-अलग मोबाइल फोन सेवा कंपनियों के ग्राहक जिनके पास आधार कार्ड है या नहीं और जिन्होंने एमआधार एप का इस्तेमाल भी नहीं किया है, उनके भी फोन की कांटैक्ट सूची में आपका हेल्पलाइन नंबर उन्हें बताये बिना क्यों दर्ज कर दिया गया है?’’  इसके बाद सोशल मीडिया पर आधार के खिलाफ अफवाहों का दौर चलने लगा था, जिसके कारण सरकार भी हरकत में आयी और गूगल को बयान जारी कर अपनी भूल को माना और अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील भी की।

 

 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)