Main Menu

कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल का बैंक अकाउंट हैक

कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल का बैंक अकाउंट हैक

नई दिल्ली। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के प्रमुख आरएस शर्मा की आधार से जुड़ी जानकारी हैक करने की घटना के बाद एक और हैरान करने वाला मामला सामने आया है। ताजा मामले में हैकर ने केंद्रीय कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल के बैंक खाते को हैक कर लिया। और फर्जी तरीके से कुछ रुपए निकाल लिए। हालांकि जब उन्होंने आइसीआइसीआइ बैंक के प्रबंधन से शिकायत की तो उनके खाते से निकाले गए रुपयों की छतिपूर्ति कर दी गयी।

आपको बता दें कि शुक्रवार को पीयूष गोयल लोकसभा में सार्वजनिक डेटा की सुरक्षा के संबंध में एक प्रश्न का जवाब दे रहे थे। इसी जवाब के दौरान उन्होंने इस घटना की जानकारी सदन में दी। उन्होंने डेटा की सुरक्षा के संबंध में कहा कि सरकार और बैंक निजता को सुरक्षित रखने का लगातार प्रयास कर रहे हैं। डेटा को अंतर्राष्ट्रीय सर्वर पर नहीं डाला जाता है। लेकिन हैकर्स हमेशा हैक करने की नई तरकीब निकाल लेते हैं। इस पर विपक्ष ने सदन में शोर मचाना शुरु कर दिया। इसी दौरान उन्होंने अपने बैंक खाते को हैक करने के बारे में बताया और कहा कि ऐसी घटनाएं बहुत बड़े स्तर पर नहीं हो रही हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ट्राई के प्रमुख आर एस शर्मा ने ख़ुद ही हैकर्स को चुनौती दी थी कि वे उनकी आधार से जुड़ी जानकारियां हैक कर के दिखाएं। इसके लिए उन्होंने अपना आधार नंबर भी सार्वजनिक किया । इसके कुछ ही घंटों बाद ही एथिकल हैकर्स ने ट्विटर के जरिए दावा किया उसने शर्मा के आधार से जुड़ी 14 जानकारियां हासिल कर चुके हैं। इनमें उनके बैंक खाते की जानकारी भी शामिल है। हैकर्स ने इस दावे को पुख़्ता करने के लिए शर्मा के ख़ाते में एक-एक रुपया भी जमा कराया और इस लेन-देन का स्क्रीन शॉट भी पोस्ट किया।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)