Main Menu

एक सप्ताह में शुरु हो सकती है शारीरिक शिक्षक अनुदेशक भर्ती

एक सप्ताह में शुरु हो सकती है शारीरिक शिक्षक अनुदेशक भर्ती

गोरखपुर (उत्तर प्रदेश)। शारीरिक शिक्षक अनुदेशक भर्ती (32022 पद) को लेकर प्रदेश के बीपीएड अभ्यर्थियों के लिए खुशखबरी है। गोरखपुर में बीपीएड अभ्यर्थी देवेन्द्र पाण्डेय से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शारीरिक शिक्षक अनुदेशक भर्ती के बारे में कहा कि “आपका कार्य हो रहा है एक सप्ताह में आपको आदेश मिल जायेगा”। इस मुलाकात के दौरान योगी आदित्यनाथ ने देवेंद्र पाण्डेय के माथे पर तिलक लगाकर आशीर्वाद भी दिया। 

आपको बता दें कि  बीपीएड अभ्यर्थियों ने अपर प्रमुख सचिव डॉ.प्रभात कुमार से लखनऊ सचिवालय में मुलाकात कर शारीरिक शिक्षक अनुदेशक भर्ती (32022) के बारे में जानकारी दी थी। अभ्यर्थी डॉ. प्रभात कुमार से पहले विधानसभा सचिवालय में उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा से भी मुलाकात कर चुके हैं। इस मुलाकात के दौरान बीपीएड अभ्यर्थियों ने दिनेश शर्मा को 32022 शारीरिक शिक्षक अनुदेशक पद पर नियुक्ति के मामले की विस्तार से जानकारी दी थी। अभ्यर्थियों की पूरी बात सुनने के बाद दिनेश शर्मा ने कहा कि अब बताओ कि हम क्या करें कि आपकी भर्ती शुरू हो जाये ? इस सवाल पर अभ्यर्थियों का कहना था कि “सर यह 23 मार्च 2017 का आदेश जो हमारे लिए काल बन गया है, इसको हटवा दें । 23 मार्च 2017 हाईकोर्ट की तारीख है और न जाने अभी कितना तारीखें पड़ती रहेंगी, इसलिए हम आपके पास आए हैं, क्योंकि हमें कोर्ट से ज्यादा आप से उमीद है। हम बेरोजगार हैं, सरकार से नहीं लड़ सकते और न ही कोर्ट के दाव-पेंच समझते हैं। आप शारीरिक शिक्षक अनुदेशक पद पर भर्ती का आदेश करवा दें। हमारी भर्ती में किसी प्रकार की कोई गलती साबित नहीं हो सकी है”। बीपीएड अभ्यर्थियों की बातों को सुनने के बाद दिनेश शर्मा ने अपर प्रमुख सचिव डा. प्रभात कुमार को पत्र लिखा था। और विश्वास दिलाया कि वह इस मामले को लेकर स्वयं मुख्य सचिव से मिलेंगे। और जल्दी ही मामले को हल करवायेंगे।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)