Main Menu

दूल्हे और बारातियों को हेलमेट का उपहार

दूल्हे और बारातियों को हेलमेट का उपहार

सीकर (राजस्थान)। एक विवाह के दौरान लड़की के पिता ने हेलमेट को लेकर अनोखी पहल की। पेशे से शिक्षक पिता ने अपनी बेटी की शादी में दूल्हे और बारातियों को हेलमेट देकर सड़क सुरक्षा की शपथ दिलाई। 150 बारातियों को उपहार मे हेलमेट देने वाले किशोर कुमार ने बताया कि सड़क दुर्घटनाओं की खबरें रोजाना अखबारों में पढ़ने को मिलती है। अधिकांश सड़क दुर्घटनाओं में मौत का कारण दुपहिया वाहन चालक द्वारा हेलमेट नहीं पहनने की बात सामने आती है। इसीलिए उन्होंने तय किया को वह अपनी बेटी के विवाह में दूल्हे समेत सभी बारातियों को हेलमेट भेंट करेंगे, और उन्हें शपथ दिलाएंगे, जिससे उनका जीवन सुरक्षित रहे।

आपको बता दें कि सीकर जिले में धाननी गांव के शिक्षक किशोर कुमार की बेटी शकुंतला का विवाह मंगलवार को सम्पन्न हुआ। विवाह तय करने के दौरान ही किशोर कुमार ने वर पक्ष से उपहार में हेलमेट देने की बात निश्चित कर ली थी। इसी वचन के तहत उन्होंने मंगलवार को बेटी और दामाद के वरमाला होने के बाद स्टेज पर पहले तो दूल्हे को हेलमेट उपहार दिया। और इसके बाद प्रत्येक बाराती को भी हेलमेट का उपहार प्रदान किया। और साथ ही सभी बारातियों को सड़क सुरक्षा की शपथ भी दिलाई।  

गौरलतब है कि हमारे देश में दोपहिया वाहन चलाने और बैठने दोनों के लिए हेलमेट लगाना जरूरी है,  लेकिन अकसर देखा यह जाता है कि लोग बिना हेलमेट लगाये ही मोटरसाईकिल या किसी दोपहिया वाहन को चलाते हैं। जिसकी वजह से आए दिन दुर्घटनाएं होती हैं। इस दुर्घटना में किसी की जान चली जाती है तो कोई गंभीर रुप से घायल हो जाता है। इसलिए आप किसी लोकल मार्केट या कहीं भी थोड़ी दूर जा रहें हो तो भी हेलमेट लगायें, क्योंकि दुर्घटना कहीं भी और कभी भी हो सकती हैं। 

हेलमेट लगाने से फायदे-

  • यह किसी हादसे की स्थिति में सिर को किसी भी तरह से नुकसान पहुचाने वाल्री चीजों से बचाता है, जैसे कोई पत्थर, कील, नुकीली तार, कंकड़ आदि।
  • हेलमेट में लगा कुशन शाक अब्जार्वर की तरह काम करता है और लगाने वाली चोट को बहुत कम कर देता है।
  • और साथ ही सिर के बीच में हवा की मात्रा को बढ़ा देता है जिससे चोट कम लगती है।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।