Main Menu

अब M-Passport App पर करें पासपोर्ट का आवेदन

अब M-Passport App पर करें पासपोर्ट का आवेदन

नई दिल्ली। यदि अभी तक आपने पासपोर्ट नहीं बनवाया है तो आपके लिए खुशखबरी है। विदेश मंत्रालय ने एम पासपोर्ट सेवा नामक सेवा शुरु की है। इस एप के जरिए आपको पासपोर्ट के लिए ऑनलाइन आवेदन और अपाइंटमेंट एंड्रायड मोबाइल पर मिल सकेगा। विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट आवेदन को आसान बनाने के लिए मोबाइल पर ही अपॉइंटमेंट देने के लिए मोबाइल एप को नई सुविधाओं के साथ विकसित किया है। जिससे पासपोर्ट आवेदकों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। इस मोबाइल एप में नीतिगत मामलों में भी समस्याओं के निराकरण से जुड़े कई विकल्प दिए गए हैं।

क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी रश्मि बघेल ने बताया कि मंत्रालय ने पहले भी इस तरह का एप बनाया था, लेकिन उसमें कुछ दिक्कतें थीं। इसलिए नए सिरे से यह एप विकसित किया गया है। इस मोबाइल एप के मुख्य मेन्यु में विंडो के रूप में फीस, पासपोर्ट का स्टेट्स, सेंटर, एफिडेविड और अपाइंटमेंट संबंधी उपलब्धता है। इतना ही नहीं, इस एप में उपलब्ध सेवाओं का ब्योरा, आवेदन कहां करना है, आवेदन पत्र, फीस के भुगतान, पुलिस वेरिफिकेशन, पोस्टल डिस्पैच एवं कॉल सेंटर की जानकारी भी दी गयी है।

आपको बता दें कि प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के डिजीटल इंडिया योजना के तहत क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय सहित अन्य कार्यालयों में मोबाइल फोन से आवेदन कराने की सुविधा शुरू कर दी है। इस एप के शुरु होने से पासपोर्ट आवेदकों को सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि इससे दलालों की भूमिका पूरी तरह खत्म हो जाएगी।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)