Main Menu

अब डीलर जारी करेंगे वाहनों का आरसी और नंबर

अब डीलर जारी करेंगे वाहनों का आरसी और नंबर

नई दिल्ली। वाहन मालिकों के लिए यह राहत भरी खबर है। अब वाहन खरीदने के बाद उसे रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) के लिए परिवहन विभाग का चक्कर नहीं लगाना पड़ेगा। डीलर ही बिक्री के साथ वाहनों का आरसी और नंबर आदि जारी कर देंगे। शासन के दिशा-निर्देश पर इस नई व्यवस्था जुलाई महीने से शुरू हो जाएगी। परिवहन विभाग के अधिकारियों की मानें तो इस नई व्यवस्था को लागू करने की प्रक्रिया पर अमल शुरू हो चुका है।   

इसे लागू करने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। डीलरों को पूरी प्रक्रिया की जानकारी दी जा रही है। जून में इसके लिए अधिकारियों, कर्मचारियों और डीलरों के बीच बैठक होगी। जिसमें विशेषज्ञ लोगों को प्रशिक्षित करेंगे। जुलाई के प्रथम सप्ताह से यह व्यवस्था शुरू हो जाएगी। सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी ने बताया कि शासन के दिशा-निर्देश पर परिवहन विभाग ने कार्यालय की पूरी व्यवस्था को ही आनलाइन और पारदर्शी बना दिया है। अब वाहन स्वामियों और अभ्यर्थियों को किसी भी लेनदेन के लिए भागकर आरटीओ दफ्तर पहुंचने की जरूरत नहीं है। वह घर बैठे ही परिवहन विभाग की वेबसाइट https://parivahan.gov.in/parivahan/  पर सभी प्रकार के लेनदेन कर सकते हैं। इसमें वाहनों के टैक्स, ट्रांसफर फीस, पता परिवर्तन फीस, एचपीए निरस्तीकरण, एचपीए दर्ज करना, डुप्लीकेट आरसी, एनओसी जारी करने व इन प्रपत्रों में मोबाइल नंबर अपडेट आदि के ट्रांजेक्शन ऑनलाइन हो रहे हैं। इससे पहले लोगों को अपने वाहन पास करवाने के लिए घंटों लाइन में खड़ा होना पड़ता था। इस व्यवस्था से लोगों को बड़ी राहत मिलेगी और यह नया सिस्टम पारदर्शिता भी लाएगा। दलालों पर भी रोक लगेगी, क्योंकि फिलहाल लोग अपने काम जल्दी करवाने के चक्कर में दलालों के हाथों में फंस जाते हैं और व्यर्थ में इन कामों के लिए पैसे दे बैठते हैं। अब वाहन खरीदने के बाद डीलर के माध्यम से रजिस्ट्रेशन होगा और इसके बाद स्पीड पोस्ट से उन्हें घर बैठे ही आर.सी. मिल जाएगी।

 

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।