Main Menu

उन्नाव बलात्कार कांड में थानेदार और दारोगा गिरफ्तार

उन्नाव बलात्कार कांड में थानेदार और दारोगा गिरफ्तार

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। आखिरकार उन्नाव रेपकांड में सीबीआई ने बुधवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए माखी थाने के तत्कालीन थानेदार अशोक सिंह भदौरिया और दरोगा कांता प्रसाद सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। सीबीआई ने लम्बी पूछताछ के बाद देर शाम दोनों की गिरफ्तारी की। गुरुवार को सीबीआई दोनों को आरोपियों को कोर्ट में पेश करेगी। इन आरोपियों के साथ ही सहित माखी थाने के छह पुलिसकर्मियों को एसआइटी की जांच के बाद निलंबित कर दिया गया था।

बताया जा रहा है कि इन आरोपी पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी षड्यंत्र, साक्ष्य मिटाने व फर्जी तरीके से आर्म एक्ट का मुकदमा लिखे जाने के मामले में की गई है। सीबीआइ जांच में पीडि़त किशोरी के पिता की हत्या के मामले में अहम तथ्य सामने आए हैं। तत्कालीन एसओ सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने पीडि़त किशोरी के पिता को जेल भेजने के आपराधिक इरादे से ही फर्जी तरीके से तमंचे की बरामदगी दिखाई गई थी। यह भी साफ हो गया है कि माखी थानाध्यक्ष सहित अन्य पुलिसकर्मी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के दबाव में थे। पीडि़त किशोरी के पिता की हत्या के आरोप में विधायक सेंगर के भाई अतुल सिंह सहित पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

माना जा रहा है कि सीबीआई का शिकंजा जल्दी ही अन्य आरोपी पुलिसकर्मियों पर भी कस सकता है। पीड़िता के पिता की हत्या की जांच में पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी को बेहद अहम माना जा रहा है। इसके साथ ही अब पीड़िता किशोरी के पिता को फंसाने के लिए रचे गए पुलिसिया खेल की अन्य परतें भी खुलेंगी।

आपको बता दें कि सीबीआई जांच के दौरान पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया गया था कि 4 जून 2017 को रेप की घटना के बाद माखी पुलिस ने साजिश के चलते मामले को दबा दिया था। जबकि  3 अप्रैल को कचहरी पेशी से लौटे पीड़िता के पिता की विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर ने अपने साथियों के साथ मिलकर पिटाई की थी। इस पिटाई के बाद 9 अप्रैल को तड़के पीड़िता के पिता की जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। इस प्रकरण में थानेदार अशोक सिंह भदौरिया और बीट दरोगा कांता प्रसाद सिंह ने विधायक के भाई के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय पीड़िता के पिता के खिलाफ फर्जी रिपोर्ट लिखकर उन्हें जेल भेज दिया गया था। जब सीबीआई ने पीड़िता के पिता पर रिपोर्ट दर्ज कराने वाले उसके चचेरे भाई टिंकू सिंह को गिरफ्तार किया तब जाकर मामले की हकीकत सामने आयी। टिंकू सिंह ने सीबीआई को दिए अपने बयान में बताया है कि पुलिस के कहने पर उसने पीड़िता के पिता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। एक महीने की जांच और टिंकू के बयानों से मिले तथ्यों को लेकर सीबीआई ने कई अहम सबूत जुटाए। और फिर पूरे मामले की जांच के बाद सीबीआई ने माखी थाने के तत्कालीन थानेदार अशोक सिंह भदौरिया और दरोगा कांता प्रसाद सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)