Main Menu

बुजुर्ग की मौत पर परिजनों का थाने पर हमला

बुजुर्ग की मौत पर परिजनों का थाने पर हमला

करनाल  (हरियाणा)। सिटी थाने में सत्तर वर्षीय बुजुर्ग की मौत से नाराज परिजनों समेत सैकड़ों लोगों ने थाने पर हमला बोल दिया। और थाने में एसएचओ के कमरे में घुसकर जमकर तोड़फोड़ की। गुस्साए लोगों ने थाने में खड़ी एसएचओ की पुलिस जीप सहित कई मोटरसाइकल, कारों को भी नहीं बख्शा। उग्र भीड़ ने सिटी थाने से निकल कर पुरानी सब्जी मंडी स्थित पुलिस चौकी को अपना निशाना बनाया और वहां भी तोड़फोड़ की।  और घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी मौके से फरार हो गए। 

बताया जा रहा है कि करनाल के सिटी थाना की पुलिस ने मंगल कॉलोनी के रहने वाले जेबा राम को गुरुवार 10 मई शाम को नशीली वस्तु बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया था। लेकिन शुक्रवार की सुबह परिजनों को पता चला कि थाने में ही जेबा राम की मौत हो गई है। परिजनों ने आरोप लगाया है कि चार पुलिसकर्मी जेबा राम को पुलिस स्टेशन लेकर गए और इस दौरान उन्होंने बुजुर्ग के साथ मारपीट की, जिससे उसकी पुलिस हिरासत में मौत हो गई। जेबा राम की मौत की सूचना मिलते ही परिजनों और स्थानीय लोगों ने मिलकर लाठी डंडे से थाने पर हमला कर दिया।  उन्हें भगाने के लिए पुलिसकर्मियों ने हवाई फायरिंग की। इसके बाद सभी वहां से फरार हो गए। फिलहाल मामला तनावपूर्ण है औऱ आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। 

हालांकि घटना के बाद पहुंचे डीएसपी वीरेंद्र सैनी ने बताया कि पुलिस ने मृतक के परिजनों की शिकायत पर तीन पुलिसकर्मियों और एक होमगार्ड पर धारा 302 का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। मृतक बुजुर्ग के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीं थाने में तोड़फोड़ करने वालों पर भी कार्रवाई की जा रही है। जिससे कि आगे फिर इस तरह की कोई घटना न घटित हो।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसीलिए अधिकार एक्सप्रेस में हमने लोकसेवा अधिकारों की जानकारी देने और संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)