Main Menu

पुलिसकर्मी ने मां से कहा 'बेटी का शव कपड़े में सिलो' !

पुलिसकर्मी ने मां से कहा 'बेटी का शव कपड़े में सिलो' !

मैनपुरी (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के तमाम दावों के बावजूद पुलिस प्रशासन अपना चाल और चरित्र बदलने को तैयार नहीं है। आए दिन प्रदेश में इनकी निरंकुशता देखने को मिलती ही रहती है। पुलिसवालों ने ताजा कारनामा मैनपुरी में किया है, जहां उन्होंने सारी मानवीय संवेदनाएं तार-तार कर दीं। पुलिसवालों ने एक रोती बिलखती मां को ही अपनी बच्ची के शव को सील करने का फरमान सुना दिया। इतना ही नहीं पीड़ित मां को आदेश दिया कि वह बच्ची का शव सील करने के बाद उसे पोस्टमार्टम हाउस ले चले।

आपको बता दें कि मोहन नगर निवासी स्वराज सिंह की बेटी अंजलि कक्षा 10 की छात्रा थी। यूपी बोर्ड की परीक्षा का परिणाम आया था, जिसमें वह वह फेल हो गयी थी। इस बात से वह बहुत आहत थी। गुरुवार की सुबह मां सुनीता और पिता स्वराज सिंह मजदूरी करने गए थे और छोटा भाई घर से बाहर खेलने के लिए चला गया था। अंजलि घऱ में अकेली थी, इसी दौरान उसने फांसी का फँदा लगाकर खुदकुशी कर ली। घटना की सूचना मिलने के बाद मां-बाप घर पहुंचे और बेटी के शव को फंदे से नीचे उतारा।  कुछ देर बाद पुलिसवाले मौके पर पहुंचे और शव पोस्टमार्टम हाउस ले जाने के लिए खुद व्यवस्था करने की बजाय परिजनों को फरमान सुना दिया। जिसके बाद परिवार के लोग शव लेकर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। हद तो तब हो गयी जब परिजन घटना की तहरीर देने कोतवाली पहुंचे तो पुलिसकर्मियों ने मृतक बच्ची के मां-बाप को एक और फरमान सुना दिया। और कहा कि घर से कपड़ा लाकर अपनी बेटी की लाश को कपड़े में सिल दो। जिसके बाद परिवार के लोग घर से पुरानी चादर लेकर आए। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने रोती बिलखती मां सुनीता से शव को कपड़े में बंद कर सिलने को कहा। बेसुध मां ने जब अपनी बेटी की लाश को कपड़े में सिलने के लिए सुई-धागा हाथ में लिया तो उसके हाथ कांपने लगे। हालांकि मौके पर मौजूद एक महिला व पड़ोसी युवक ने सुई-धागा थाम लिया और किसी तरह बच्ची के शव को कपड़े में सिला।

वहीं हमेशा की तरह मामले की जानकारी मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक अजय शंकर राय ने कहा कि यदि ऐसा हुआ है तो मामला गंभीर है। मामले की जांच कराई जाएगी। और  दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। अब इन आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कितनी कड़ी कार्रवाई होगी ये तो समय बताएगा, लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि इस तरह कब तक प्रदेश की जनता पुलिस की निरंकुशता को बर्दाश्त करती रहेगी।  

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। इसीलिए अधिकार एक्सप्रेस में हमने लोकसेवा अधिकारों की जानकारी देने और संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)