Main Menu

60 किलो प्रार्थना पत्र लेकर डीएम कार्यालय पहुंचा बुजुर्ग

60 किलो प्रार्थना पत्र लेकर डीएम कार्यालय पहुंचा बुजुर्ग

पिथौरागढ़ (उत्तराखंड)। शुक्रवार को पिथौरागढ़ कलेक्ट्रेट में सरकार और अधिकारियों के नाकारपन का एक ऐसा अजब-गजब नजारा देखने को मिला, जिसे पढ़कर आपको प्रशानिक व्यवस्था से नफरत होने लगेगी। सरकार के नाकारापन से परेशान चीन सीमा से लगे इलाके का क्षेत्र पंचायत सदस्य साठ किलो वजन का प्रार्थना पत्र पीठ पर लादकर जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा। 72 वर्ष के मनोज कुमार नगन्याल नाम के इस व्यक्ति की यह हालत देखकर लोग हैरान रह गए। मनोज कुमार नगन्याल ने मीडिया को बताया कि उन्हें यह कदम क्षेत्र की समस्याओं का निदान न होने पर उठाना पड़ा। मनोज ने कहा कि वर्षों से समस्याओं से निजात दिलाने की गुहार लगाते-लगाते 60 किलो ज्ञापनों का पुलिंदा बन गया है, लेकिन क्षेत्र की समस्याएं जस की तस बनी हैं। किसी भी ज्ञापन पर सकारात्मक कार्यवाही नहीं हुई। 

पिथौरागढ़ जिले के दारमा क्षेत्र पंचायत के नागलिंग गांव के निवासी मनोज कुमार नगन्याल 2009 से लेकर 2014 तक ग्राम प्रधान रहे चुके हैं। अब वह 2014 से दारमा के क्षेत्र पंचायत सदस्य हैं। इस पंचायत क्षेत्र में सीपू, मार्छा, गो, तिदांग, विदांग, बालिंग, बौगलिंग, सौन, चल, नागलिंग, सेला, दर, दुग्तू, दांतू, ढाकर, दर गांव आते हैं। ये सभी गांव उच्च हिमालयी चीन सीमा से लगे हुए हैं। यह क्षेत्र आपदा से लेकर तमाम तरह की  समस्याओं से जूझता रहता है। मनोज कुमार नगन्याल केंद्र, राज्य सरकारों के अलावा डीएम, एसडीएम को इस क्षेत्र की समस्याओं के निदान के लिए हमेशा पत्र भेजते रहे हैं। इन 9 वर्षों के बीच उन्होंने शासन, प्रशासन और सरकार को हजारों की संख्या में पत्र भेजे। इन पत्रों का वजन अब 60 किलो हो चुका है। लेकिन अभी तक भेजे गए पत्रों में से केवल 20 फीसदी समस्याओं का ही निदान हो सका है। मनोज ने बार-बार आवाज उठाने के बाद भी क्षेत्र की समस्याओं की अनदेखी का आरोप लगाया। उन्होंने समस्याओं का निदान न होने पर आंदोलन छेड़ने की चेतावनी भी दी है। 

हालांकि बाद में जिलाधिकारी सी रविशंकर ने मनोज कुमार नगन्याल को बुलाकर उनसे बातचीत की और समस्याओं के निस्तारण का भरोसा दिलाया। इस दौरान नगन्याल ने प्रधानमंत्री का संबोधित 26 सूत्री मांगों का ज्ञापन डीएम को सौंपा। उन्होंने चेतावनी दी कि समस्याओं के निदान के लिए जल्द पहल नहीं हुई तो वह मुख्यालय में अनशन पर बैठेंगे।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)