Main Menu

अनाथ बच्चे ने पुलिस की रिश्वतखोरी को सरेआम किया नंगा

अनाथ बच्चे ने पुलिस की रिश्वतखोरी को सरेआम किया नंगा

वैशाली (बिहार)। वैशाली जिले में एक अनाथ गरीब बच्चे ने पुलिस की रिश्वतखोरी को सरेआम नंगा कर दिया। 12 साल के बच्चे विवेक ने थानेदार को रिश्वत देने के लिए गले में एक तख्ती लटकाई । जिस पर लिखा था कि थानेदार को 10 हजार रूपये रिश्वत देने में मेरा सहयोग कीजिये। दरअसल इस गरीब बच्चे की जमीन पर दबंगों ने कब्ज़ा कर लिया है। इसी जमींन पर से कब्ज़ा हटवाने के लिए वह पुलिस थाने पंहुचा था, लेकिन थानेदार ने मदद की एवज में उससे 10 हजार रूपये की रिश्वत मांगी। जिसके बाद बच्चे ने इस अनोखे तरीके को अपनाया। बच्चा भीख मांगते हुए कलेक्ट्रेट के पास पहुंचा तो कलेक्ट्रेट कार्यालय में हड़कंप मच गया। घटना की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी बच्चे से मिले और मामले की जाँच के निर्देश दिए। जिसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों ने मौके पर पहुँचकर मामले की जाँच शुरू की। डीडीसी सर्वनारायां का कहना है कि पूरे मामले को गंभीरता से लिया जायेगा। अनाथ बच्चे को जरूर न्याय मिलेगा।                                         

आपको बता दें कि यह अनाथ बच्चा वैशाली जिले के चेहराकलां गांव का रहने वाला है। वह अपनी जमीन को दबंगों के कब्जे से छुड़ाने के लिए ओपी थाना प्रभारी राकेश रंजन से गुहार लगाने गया था, राकेश रंजन ने मदद करने की एवज में उससे 10 हजार रूपये की रिश्वत मांगी। मासूम विवेक का कहना है कि उसके पास इतने पैसे नहीं है कि वह थानेदार को रिश्वत दे सके। इसीलिए उसने भीख मांगने का रास्ता चुना , ताकि वह अपनी जमीन मुक्त करा सके।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)