Main Menu

नई दिल्ली। आधार कार्ड  माडल को लेकर सुप्रीम कोर्ट में बृहस्पतिवार को काफी ...

नई दिल्‍ली। आजकल आधार कार्ड की सुरक्षा और डेटा लीक की बात आए दिन चर्चा में ...

नई दिल्ली। बिजली की कटौती से परेशान दिल्ली वालों के लिए राहत की खबर है। अब ...

नई दिल्ली। आरटीओ के चक्कर लगाने वाले वाहन मालिकों के लिए सड़क परिवहन एवं ...

उन्नाव (उत्तर प्रदेश)। गरीब जनता को परेशान करने के लिए बदनाम उत्तर प्रदेश ...

मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश)। मुजफ्फरनगर में जंगलराज का एक हैरतअंगेज नमूना ...

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। बाराबंकी पुलिस की मनमानी से परेशान गैंगरेप पीड़ित महिला ...

नई दिल्ली। दिल्‍ली में राशन घोटाले को लेकर आई कैग की रिपोर्ट पर दिल्‍ली ...

आगरा (उत्तर प्रदेश)। गोरखपुर और फर्रुखाबाद में हुए हादसे के बाद भी मेडिकल ...

इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ सिंह के गृह ...

बरेली (उत्तर प्रदेश)। बरेली के ब्लॉक रामनगर में शौचालय निर्माण को लेकर एक ...

दिल्ली में ईमानदार सरकार चलाने का दावा करने वाली केजरीवाल सरकार पर 5400 करोड़ ...

नई दिल्ली। दिल्ली के रामलीला मैदान में पिछले सात दिनों से अनशन पर बैठे ...

नई दिल्ली। आधार कार्ड  माडल को लेकर सुप्रीम कोर्ट में बृहस्पतिवार को काफी ...

नई दिल्‍ली। आजकल आधार कार्ड की सुरक्षा और डेटा लीक की बात आए दिन चर्चा में ...

नई दिल्ली। बिजली की कटौती से परेशान दिल्ली वालों के लिए राहत की खबर है। अब ...

नई दिल्ली। आरटीओ के चक्कर लगाने वाले वाहन मालिकों के लिए सड़क परिवहन एवं ...
Load More

सदस्यता लें

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।