Main Menu

App से गाड़ी के मालिक का पता करें

App से गाड़ी के मालिक का पता करें

आप आनलाइऩ सिर्फ दो मिनट में ही नंबर प्लेट पर दिए गाड़ी के नंबर से गाड़ी के मालिक का पता लगा सकते हैं। 

परिवहन विभाग के वेबसाइट (RTO Vehicle Information app) के माध्यम से किसी भी गाड़ी से सम्बंधित जानकारी जैसे- गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर, गाड़ी मालिक का नाम, रजिस्ट्रेशन डेट, मॉडल, क्लास, इंजन नंबर और चेसिस नंबर इत्यादि की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

RTO Vehicle Information app को आप https://play.google.com/store/apps/details?id=com.suitableapps.vehicleinfo&hl=en (गूगल प्ले स्टोर) से डाउनलोड कर सकते हैं। 

  • इस Android App को डाउनलोड करने के बाद इसे install कर लें, फिर App को ओपन करें
  • इसके बाद vehicle Information बटन पर क्लिक करें
  • इसके बाद जो स्क्रीन आपके सामने आएगी। उसमें आपको गाड़ी नंबर डालना होगा जिसके बाद आपको वहां से सम्बंधित उपरोक्त जानकारी मिल जायेगी।

आरटीओ विभाग में सभी तरह के वाहनों की लिस्ट और अन्य सूचनाएं ऑनलाइन जाने से वाहन मालिकों को कई फायदे होंगे। 

  • वाहन मालिकों को आसानी से मिलेगी सूचनाएं। 
  • लोगों को लेट फीस नहीं देनी होगी 
  • लर्निग डीएल वालों को फिर से लर्निग नहीं बनवाना होगा 
  • कार्यालय में अधिक भीड़ नहीं लगेगी

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)