Main Menu

दिल्ली में राशन कार्ड के प्रकार और सुविधाएं

दिल्ली में राशन कार्ड के प्रकार और सुविधाएं

दिल्ली में राशन कार्ड के प्रकार और सुविधाएं- 

  1. एपीएल (गरीबी रेखा से ऊपर) सफेद रंग का कार्ड होता है।
  • जिस परिवार की वार्षिक आय 24,200 रुपए से ज्यादा है, वह एपीएल कटेगरी में आता है।
  • एपीएल कार्ड धारक को गेहूं, चावल व मिट्टी का तेल मिलता है।
  • इसमें एक लाख रुपये वार्षिक आय वाले परिवार को ही राशन दिया जा रहा है। 
  1. बीपीएल (गरीबी रेखा से नीचे) पीले रंग का कार्ड होता है।
  • जिस परिवार की वार्षिक आय 24,200 रुपए से कम है, वह बीपीएल कटेगरी में आता है।
  • बीपीएल कार्ड धारक को गेहूं, चावल, मिट्टी का तेल व चीनी मिलती है।
  • बीपीएल कार्ड पर राशन एपीएल से सस्ता मिलता है। 
  1. एएवाई (अंत्योदय अन्न योजना) गुलाबी रंग का कार्ड होता है।
  • जिस परिवार की वार्षिक आय 24,200 रुपए से कम है, वह बीपीएल कटेगरी में आता है।
  • इसमें शारीरिक या मानसिक विकलांग, भूमिहीन मजदूर और विधवाएं आती हैं। एएवाई कार्ड धारक को गेहूं, चावल, मिट्टी का तेल व चीनी मिलती है।
  • एएवाई कार्ड पर राशन बीपीएल कार्ड से सस्ता मिलता है। 
  1. अन्नपूर्णा कार्ड 
  • अन्नपूर्णा योजना में 65 साल से ज्यादा उम्र के वे लोग आते हैं, जिनकी कमाई का कोई साधन नहीं होता है।
  • नैशनल ओल्ड एज पेंशन या राज्य पेंशन स्कीम का लाभ न ले रहे हों।
  • इस योजना के तहत हर महीने 10 किलो अनाज मुफ्त दिया जाता है। 

बीपीएल, एएवाई और अऩ्नपूर्णा कार्ड धारक का चयन- 

  • बीपीएल, अंत्योदय अन्न योजना व अन्नपूर्णा कार्ड के लिए आवेदन मिलने पर लाभाथिर्यों का चयन उस सर्कल की सलाहकार समिति करती है।
  • क्षेत्र का विधायक इस कमिटी का चेयरमैन होता है,
  • फूड सप्लाई ऑफिसर व चेयरमैन द्वारा मनोनीत सदस्य इस कमिटी के सदस्य होते हैं।
  • ग्राहक की धांधली का जानकारी होने पर कार्ड नवीनीकरण के समय रोक सकते हैं। हालांकि चेक करने का कोई जरिया है भी नहीं।
  • डीलर को पहले एक-दो बार चेतावनी दी जाती है। हालांकि लगातार शिकायत मिलने पर कैंसल कर सकते हैं।

 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)