Main Menu

दिल्ली में राशन डीलर की शिकायत

दिल्ली में राशन डीलर की शिकायत

यदि आप राशन डीलर की मनमानी से परेशान हैं तो उसके खिलाफ शिकायत कर सकते हैं। 

  • आप राशन डीलर से दुकान पर उपलब्ध शिकायत पुस्तिका मांगकर उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कर सकते हैं।
  • यदि शिकायत मिलने पर एक-दो बार चेतावनी के बाद भी डीलर लगातार मनमानी करता है तो उसका लाइसेंस रद्द भी किया जा सकता है।
  • यदि दुकानदार शिकायत पुस्तिका उपलब्ध न कराए तो आप खाद्य आपूर्ति अधिकारी को मामले की लिखित में सूचना दें।
  • आप राशन डीलर के खिलाफ- कंट्रोल रूम के फोन नं. 011-23370841 या 1800110841 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
  • आप विभाग की ईमेल आईडी : This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भी शिकायत कर सकते हैं।
  • आप अपने सर्कल के सहायक आयुक्त को विकास भवन के पते पर भी लिख सकते हैं। पता है : आयुक्त, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, के-ब्लॉक, विकास भवन, आई.पी. एस्टेट नई दिल्ली-110002, फोन नं. 011-23379206 पर फैक्स भी कर सकते हैं।
  • आप खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री, दिल्ली सचिवालय, आई.पी. एस्टेट, नई दिल्ली-110002 को भी लिख सकते हैं।
  • दिल्ली सरकार के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने लोगों की शिकायतों और सुझाव जानने के लिए फेसबुक पेज facebook.com/cfood.delhi बनाया है। राशन की दुकानों में गड़बड़ी, कीमतों में गोलमाल और दुकानदारों के व्यवहार से जुड़ी शिकायतें आप इस पेज पर कर सकते हैं।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)