Main Menu

झूठी शिकायत के खिलाफ क्या करें

झूठी शिकायत के खिलाफ क्या करें

आप सबसे पहले झूठी शिकायत देने वाले शिकायतकर्ता के खिलाफ एक काउंटर शिकायत सम्बंधित या नजदीकी पुलिस स्टेशन में दें या उनके उच्चाधिकारी को दें। शिकायत दर्ज कराने के लिए किसी सबूत को साथ देने की जरूरत नहीं होती। यह जांच अधिकारी की जिम्मेदारी होती है कि वो शिकायत की जांच करे, गलत पाये जाने पर शिकायत बंद कर दे या फिर सही पाये जाने पर सम्बंधित धारा के तहत केस दर्ज करें।     

  • आप झूठे शिकायतकर्ता के खिलाफ एक निजी शिकायत, क्षेत्र के मजिस्ट्रेट को सीआरपीसी की धारा 190 (ए) के तहत दे सकते हैं। जो आपकी शिकायत पर धारा 200 के तहत कारर्वाई करेंगे। 
  • सीआरपीसी की धारा 156 (3) के तहत मजिस्ट्रेट को शिकायत देने के बाद पुलिस को प्राथमिकी दर्ज करने के लिए निवेदन किया जा सकता है।       
  • यदि झूठी शिकायत कोर्ट में जाती है तो आप कोर्ट से "नोटिस ऑफ़ एक्वाजेशन" की मांग कर उस झूठी शिकायत के खिलाफ लड़ने की इच्छा जताएं। जैसे ही आप लड़ने की बात रखेंगे तो अगली पार्टी को एक निश्चित समय सीमा के भीतर आपके खिलाफ सबूत एवं गवाह पेश करने होंगे। उस सबूत एवं गवाह को आप कोर्ट में क्रॉस परीक्षण कर सकते हैं एवं अपने पक्ष को रखते हुए सच्चाई कोर्ट के सामने ला सकते हैं।  
  • आप झूठे शिकायतकर्ता के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कराने कि प्रक्रिया शुरू करें। और अपने साथ हुई ज्यादती एवं मानसिक परेशानी व मानहानि का मुआवजा मांगें।  
  • धारा 182 के तहत सरकारी कर्मचारी को झूठी सूचना या जानकारी देने पर सजा का प्रावधान है। केस की जांच में साबित हो जाता है कि शिकायतकर्ता द्वारा झूठी शिकायत दी गई तो धारा 182 के तहत उसके खिलाफ कार्रवाई होती है। इसमें 6 महीने की सजा और जुर्माना भी है। 
  • जबकि धारा 211 के तहत कोर्ट में झूठी गवाही या गुमराह करने पर उसके खिलाफ कोर्ट के आदेश पर कार्रवाई होती है। जिसकी सजा 7 साल से अधिक है।
  • यदि कोई व्यक्ति कोर्ट में झूठी गवाही देता है और कोर्ट इस बात से संतुष्ट हो जाए कि गवाह ने झूठी गवाही दी है तो उसके खिलाफ कार्रवाई का आदेश दे सकता है। कोर्ट को यह अधिकार है कि वह ऐसे मामले में सीआरपीसी की धारा-340 के तहत समरी प्रोसिडिंग चलाकर वैसे गवाह के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दे सकता है। इस दौरान जुर्माना लगाया जा सकता है और जेल भी भेजा जा सकता है।

आपराधिक मामलों में झूठी शिकायत पर क्या करें 

  • यदि आपके खिलाफ मारपीट, चोरी, बलात्कार अथवा अन्य किसी प्रकार का षडयंत्र  रचकर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज करा दी जाती है, तो आप हाईकोर्ट में धारा 482 सीआरपीसी के तहत प्रार्थना पत्र दायर कर अपने खिलाफ हो रही पुलिस कार्यवाही को तुरंत रुकवा सकते हैं।
  • इसके अलावा हाईकोर्ट आपका प्रार्थना पत्र देखकर संबंधित जांच अधिकारी को जांच करने के लिए आवश्यक निर्देश दे सकता है।
  • इस तरह के मामलों में जब तक हाईकोर्ट में धारा 482 सीआरपीसी के तहत मामला चलता रहेगा, पुलिस आपके खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही नहीं कर सकेगी।
  • यदि आपके खिलाफ वारंट जारी है तो वह भी तुरंत प्रभाव से हाईकोर्ट के आदेश आने तक के लिए रुक जाएगा। 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।