Main Menu

एनसीआर (नॉन कॉग्निजेबल रिपोर्ट) क्या है

एनसीआर (नॉन कॉग्निजेबल रिपोर्ट) क्या है

मोबाइल या कोई सामान चोरी होने पर जब आप पुलिस थाने जाते हैं तो पुलिस एफआईआर दर्ज करने की बजाय आपकी एनसीआर काट देती है। आइए जानते हैं कि एनसीआर क्या है- 

  • मोबाइल की झपटमारी या पर्स आदि गुम होने पर जब पीड़ित थाने जाता है, तो पुलिस एफआईआर के बजाय एनसीआर (नॉन कॉग्निजेबल रिपोर्ट) काट देती है। 
  • हालांकि ऐसे मामले में आपको तनिक भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। गायब हुए सामान के बारे में पुलिस को तुंरत सूचना देनी चाहिए। 
  • ऐसे मामलों में आमतौर पर पुलिस सीधे तौर पर एफआईआर नहीं करती है। यदि किसी का मोबाइल चोरी हुआ है या फिर किसी ने लूट लिया है तभी एफआईआर दर्ज होती है। 
  • लेकिन यदि मोबाइल कहीं खो जाए या फिर गुम हो जाए तो पुलिस एनसीआर काटती है।
  • एनसीआर में पुलिस घटना के बारे में जिक्र करती है और उसकी एक कॉपी शिकायतकर्ता को दिया जाता है।
  • इसके बाद अगर उक्त मोबाइल या फिर गायब हुए किसी दस्तावेज का कोई भी शख्स गलत इस्तेमाल करता है तो एनसीआर की कॉपी के आधार पर अपना बचाव किया जा सकता है।
  • एनसीआर की कॉपी पुलिस अधिकारी कोर्ट को भेजता है। साथ ही मामले की छानबीन के बाद अगर कोई क्लू न मिले तो पुलिस अनट्रेसेबल का रिपोर्ट दाखिल करती है।
  • लेकिन छानबीन के दौरान पुलिस अगर केस सुलझा ले और सामान की रिकवरी हो जाए तो एनसीआर की कॉपी के आधार पर वह सामान शिकायती को मिल सकता है।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।