Main Menu

अब मोबाइल फोन से करें पासपोर्ट के लिए आवेदन

अब मोबाइल फोन से करें पासपोर्ट के लिए आवेदन

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट सेवाओं के सरलीकरण की दिशा में एक और अहम कदम उठाते हुए मंगलवार से मोबाइल फोन से भी आवेदन करने की सुविधा शुरू कर दी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पासपोर्ट सेवा दिवस के अवसर पर पासपोर्ट सेवा ऐप लॉन्च करके सेवा की शुरुआत की। विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने कहा कि पासपोर्ट के लिए अब लोगों को अब दफ्तरों के चक्‍कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इस एप के जरिए देश के किसी हिस्‍से में पासपोर्ट के लिए आवेदन किया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि यह एप पुलिस वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को और भी सरल बनाएगा। एप पर दिए गए पते पर ही पुलिस वेरिफिकेशन होगा। इस मौके पर संचार मंत्री मनोज सिन्हा और विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह भी उपस्थित थे।

विदेश मंत्री का कहना था कि अब पासपोर्ट के लिए आवेदन करते वक्त महिला और पुरुषों को मैरिज सर्टिफिकेट देने की जरूरत नहीं होगी। ज्यादातर तलाकशुदा महिलाओं की शिकायत थी कि उन्हें अपने पूर्व पति यानी ऐसे व्यक्ति की जानकारी देनी पड़ती है, जो बच्चों के लिए अजनबी होते हैं। अब उन्हें ऐसा नहीं करना पड़ेगा। 

विदेश मंत्री ने कहा कि इसके जरिए पासपोर्ट बनवाना और आसान हो गया है। एप के मुख्य मेन्यु में फीस, पासपोर्ट का स्टेटस, सेंटर, एफिडेविड और अपाइंटमेंट संबंधी उपलब्धता है। इसमें उपलब्ध सेवाओं का ब्योरा, आवेदन कहां करना है, आवेदन पत्र, फीस के भुगतान, पुलिस वेरिफिकेशन, पोस्टल डिस्पैच एवं कॉल सेंटर की जानकारी भी रहेगी। हालांकि इसके पूर्व भी मंत्रालय ने , इस तरह का एप बनाया था, लेकिन उसमें कुछ दिक्कतें थीं। इसलिए नए सिरे से यह एप विकसित किया है। इसमें आवेदक अपने स्मॉर्टफोन मोबाईल पर एप को डाउनलोड कर पासपोर्ट हेतु आवेदन कर सकते हैं। पासपोर्ट सेवा केंद्र, शुल्क का भुगतान, आवेदन की स्थिति, संपर्क तथा अन्य संबंधित जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही मुलाकात हेतु उपलब्ध समय की स्थिति, पासपोर्ट हेतु आवश्यक दस्तावेज एवं भारत के बाहर के मिशन/पोस्टों आदि के बारे में भी एप के माध्यम से जानकारियां प्राप्त की जा सकती है । इससे पासपोर्ट संबंधी आवेदन में पारदर्शिता एवं समय की बचत तो होगी ही साथ ही जरूरी जानकारी लेने में भी आसानी होगी।

विदेश मंत्री के मुताबिक, देश में फिलहाल 260 पासपोर्ट केंद्र हैं। सरकार हर लोकसभा क्षेत्र में पासपोर्ट केंद्र खोलने की योजना पर काम कर रही है। पहले दो चरणों में 251 नए पासपोर्ट केंद्र खोलने की योजना बनाई गई थी, जिसमें से 212 केंद्र बन चुके हैं। तीसरे चरण में हमने 38 केंद्र खोलने की बात कही थी, इनमें से 2 शुरू हो गए हैं।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।