Main Menu

राज्यकर्मियों को बिहार सरकार का तोहफा

राज्यकर्मियों को बिहार सरकार का तोहफा

पटना (बिहार) मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कैबिनेट मंत्रियों की बैठक में राज्य के सरकारी सेवकों को मिलने वाले लोन को लेकर बड़ी राहत दी है। बैठक में फैसला लिया गया कि अब सरकारी सेवकों को मकान निर्माण के लिए एडवांस के रूप में 7.5 लाख रुपए की बजाय 25 लाख का लोन मिलेगा। और साथ ही सरकारी कर्मियों को कंप्यूटर और लैपटॉप खरीदने के लिए भी लोन दिया जायेगा। सोमवार को कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। वहीं दूसरी ओर सरकारी सेवकों के कार और मोटर साइकिल के लिए एडवांस की सुविधा बंद कर दी गई है। 

इस फैसले की पुष्टि करते हुए कैबिनेट विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह ने कहा कि सरकारी सेवक मकान बनाने के लिए अब 25 लाख रुपए तक मकान निर्माण एडवांस ले सकेंगे। इसी प्रकार मकान के विस्तार के लिए सरकारी सेवकों को अब 1 लाख 80 हजार की बजाय 10 लाख रुपए तक मिलेंगे। जबकि सरकारी सेवक को सेवाकाल में पांच बार कंप्यूटर एडवांस मिलेगा। पहली बार इसके लिए न्यूनतम 30 हजार रुपए से लेकर अधिकतम 80 हजार रुपए तक एडवांस मिलेंगे। दूसरी बार अधिकतम 30 हजार रुपए से लेकर 75 हजार रुपए तक एडवांस मिलेगा। वहीं दूसरी ओर सातवें वेतनमान में प्रावधान नहीं होने की वजह से सरकारी सेवकों के कार और मोटर साइकिल एडवांस की सुविधा बंद कर दी गई है। इसके अलावा कैबिनेट की बैठक में कई और भी फैसले लिए गए।

 

 

 

 

 

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।