Main Menu

शिक्षा विभाग ने 11 नाकारा शिक्षकों को जबरन किया रिटायर

शिक्षा विभाग ने 11 नाकारा शिक्षकों को जबरन किया रिटायर

रायपुर (छत्तीसगढ़)। बिलासपुर जिले के कई नाकारा शिक्षकों पर राज्य सरकार की गाज गिरी है। शिक्षा विभाग ने जिले के 11 शिक्षकों को रिटायर कर दिया है। राज्य सरकार ने केंद्र सरकार की तर्ज पर राज्य के अधिकारियों और कर्मचारियों के सर्विस रिव्यू के आदेश के बाद शिक्षा विभाग ने इन शिक्षकों को जबरदस्ती रिटायर करने का आदेश दिया है। 

आपको बता दें कि शिक्षा विभाग ने सर्विस रिव्यू के आधार पर ऐसे शिक्षकों की सूची तैयार की गयी थी, जिन पर गंभीर आरोप थे, जो ड्यूटी से गायब रहते थे, जिनका प्रदर्शन ठीक नहीं था, या जिनका शैक्षिक स्तर अच्छा नहीं था। शिक्षा विभाग के रिव्यू की सूची प्राप्त करने के बाद सामान्य प्रशासन विभाग ने इस वर्ष मार्च में शिक्षकों को रिटायर करने की सहमति दे दी थी। अब जाकर मामले पर अमल किया जा रहा है। रिटायर किए गए इन शिक्षकों में प्रधान पाठक ग्रेगरी कुजूर, अशोक चंद्रिकापुरे, नीलकिरण तिवारी, तिलकराम देवांगन, आरएस कछावा, अनूराम सिंगरील, नैनदास मिरे, त्रिलोकीनाथ दुबे, उच्च श्रेणी शिक्षक नीलेश चंद्र मदने, निर्मला भारद्वाज, राजीव कश्यप के नाम शामिल हैं।    

गौरतलब है कि सर्विस रिव्यू के लिए विभागवार समितियां बनाई गई थीं। केंद्र सरकार के सर्विस रिव्यू में जहां दो आईएएस और तीन आईपीएस अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई थी, वहीं राज्य सरकार के सर्विस रिव्यू में पुलिस विभाग के प्रधान आरक्षक, एएसआई स्तर के करीब 40 अधिकारियों को हटाया गया था।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।