Main Menu

चुनाव प्रचार में गड़बड़ी की शिकायत

चुनाव प्रचार में गड़बड़ी की शिकायत

चुनाव प्रचार में गड़बड़ी की शिकायत 

  • पीठासीन अधिकारी या निर्वाचन अधिकारी या जिला चु्नाव अधिकारी या मुख्य चुनाव अधिकारी या फिर निर्वाचन आयोग से शिकायत कर सकते हैं ।
  • न्यायिक मजिस्ट्रेट से शिकायत कर सकते हैं।
  • लोकपाल नियुक्त हो तो उससे शिकायत कर सकते हैं।
  • हर हिंसक घटना की थाने में एफआईआर दर्ज करा सकते हैं ।

चुनाव में बेहिसाब पैसों के खर्च की शिकायत

  1. स्थानीय आयकर अधिकारियों से शिकातय करें,
  2. निर्वाचन आयोग के चुनाव प्रेक्षक से शिकायत करें,
  3. निर्वाचन आयोग के चुनाव व्यय प्रेक्षक से शिकायत करें,
  4. राज्य सरकार से शिकायत करें,
  5. पुलिस से शिकायत करें,
  6. न्यायिक मजिस्ट्रेट शिकायत करें,
  7. निर्वाचन अधिकारी या जिला चुनाव अधिकारी या मुख्य चु्नाव अधिकारी या निर्वाचन अधिकारी से शिकायत करें।

दीवारों पर नारों के खिलाफ शिकायत

  • राजनैतिक दलों द्वारा दीवारों और घरों पर नारे लिखना अपराध है। इसके खिलाफ निम्नलिखित कार्रवाईयां की जा सकती हैं...
  1. राजनैतिक दल के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करा सकते हैं,
  2. संपत्ति के नुकसान का सिविल दावा दर्ज करा सकते हैं,
  3. निर्वाचन आयोग के प्रेक्षकों से शिकायत कर सकते हैं।
  4. निर्वाचन अधिकारी या जिला चुनाव अधिकारी या मुख्य चुनाव अधिकारी से शिकायत कर सकते हैं,
  5.  पुलिस से शिकायत कर सकते हैं ।

लाउडस्पीकर के गलत इस्तेमाल पर शिकायत

  • चुनावों के दौरान निर्धारित समय के अलावा अथवा बहुत ऊंची आवाज में लाउज स्पीकरों के इस्तेमाल के खिलाफ निम्नलिखित से शिकायत कर सकते हैं...
  1. जिला प्रशासन से शिकायत कर सकतें हैं,
  2. पुलिस से शिकायत कर सकते हैं,
  3. निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक से शिकायत कर सकते हैं,
  4. निर्वाचन अधिकारी या जिला निर्वाचन अधिकारी या निर्वाचन आयोग से शिकायत कर सकते हैं।

 

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।