Main Menu

बिहार में जाति प्रमाण पत्र कैसे प्राप्त करें

बिहार में जाति प्रमाण पत्र कैसे प्राप्त करें

बिहार में आप घर बैठे ही जाति प्रमाण पत्र स्वयं ही ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। प्रमाण पत्र पाने के लिए आवेदक को खुद ही अपने प्रखंड (ब्लॉक) कार्यालय में जाना  होगा। और प्रमाण पत्र प्राप्त करते समय व्यक्तिगत रूप से स्वयं उपस्थित होकर शपथ पत्र पर हस्ताक्षर करना होगा। इसके बाद ही आपको प्रखंड कार्यालय से जाति प्रमाण पत्र जारी किया जायेगा।

जाति प्रमाण पत्र प्राप्त करने की अवधि- 

जाति प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने के बाद सेवा प्रदान करने की समय अवधि 10 कार्य दिवस तक निर्धारित की गयी है। 

अनुमंडल अधिकारी से अपील का अधिकार- 

इस सेवा की खास बात यह है कि यदि निर्धारित समय-सीमा के अंदर यदि आपको आय प्रमाण पत्र प्रदान नहीं किया गया, तो आप अनुमंडल अधिकारी के समक्ष 30 दिनों के अन्दर अपील दायर कर सकते हैं। 

आप घर बैठे जाति प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन करें- 

अब आप घर बैठे स्वयं ऑनलाइन जाति प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करें। सबसे पहले अपने मोबाइल या कंप्यूटर पर chrome ब्राउजर को खोलें, और यूआएल http://210.212.23.51/rtps/ क्रोम ब्राउजर पर लिखें। 

http://210.212.23.51/rtps/ पर क्लिक करने के बाद आपको पेज इस तरह से दिखाई देगा। अब आप पेज में बताये गए Aply Online  पर क्लिक करें।

  

Aply online पर क्लिक करने के बाद अब आपके सामने एक नया पेज खुल जायेगा, जिस पर 'मैं सहमत हूं'। उस पर क्लिक कर दें।

 

I Agree  पर क्लिक करने के बाद अब आपके सामने दो आप्शन देखने को मिलेंगे, जिसमें आपसे पूछा जाएगा कि आप अपना प्रमाण पत्र कहां से प्राप्त करना चाहते हैं।

  1. Block  (प्रखंड)
  2. बिहार भवन 5, कौटिल्य मार्ग, चाणक्यपुरी, न्यू दिल्ली-110021

अब आप अपनी पसंद के अनुसार पहले या दूसरे में से प्रखंड को सेलेक्ट करें।

प्रखंड को सेलेक्ट करने के बाद उसके नीचे एक Certificate का Option आएगा, जिसमें मांगी गयी सूचना को भरना होगा-

  • Name (अंग्रेजी में अपना नाम भरें)
  • नाम (हिंदी में नाम भरे)
  • Certificate (आप जाति प्रमाणपत्र को सेलेक्ट करें)
  • MOBILE NO. (आप अपना चालू नंबर भरें)

अब अंत में Next पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके मोबाइल नंबर पर एक 4 अंको वाला RTPS वेरिफिकेशन कोड SMS के माध्यम से आपको प्राप्त होगा। अब आप 'I have Verification code'  पर मार्क लगायें और फिर उसके नीचे वाला  Enter Verification code बॉक्स में मोबाइल नंबर पर SMS के माध्यम से प्राप्त हुआ 4 अंको वाला RTPS वेरिफिकेशन कोड टाइप कर Verify Code पर क्लिक कर दें।

अब एक नया पेज खुलेगा। जिसमें इस तरह का खाली फॉर्म दिखेगा, इसमें आप अपनी पूरी जानकारी भरकर Next कर क्लिक कर दीजिये।

 

Next पर क्लिक करने के बाद, अगले पेज में आपको भरी गयी जानकारी के साथ एक पत्र मिल जाएगा, जो कुछ इस तरह दिखाई देगा।

 

 इस पेज के नीचे में 'मैं सहमत हूं' (I Agree) दिखाई देगा, अब आप उस पर मार्क लगाकर सबमिट पर क्लिक कर दें।

 

'मैं सहमत हूं' में मार्क लगते ही स्क्रीन पर Print  करने के लिए रिसीविंग फॉर्म दिखेगा। इस रिसीविंग फॉर्म को प्रिंट कर 10 कार्य दिवस (10 दिन बाद , छुट्टी के  दिन को  छोड़कर) अपने प्रखंड (ब्लॉक) कार्यालय में जाकर अपना प्रमाण -पत्र प्राप्त कर सकते हैं।

 

नोट- आप इस बात का विशेष ध्यान रखें कि ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए सिर्फ Google Chrome का ही इस्तेमाल करना है। यदि आप किसी दूसरे ब्राउज़र में ऑनलाइन अप्लाई करने की कोशिश करेंगे तो वो आपसे Login और Password पूछेगा और वहाँ पर Register करने का कोई भी विकल्प नहीं होगा।

जाति प्रमाण पत्र प्राप्त करने की प्रक्रिया- 

  • आपको प्रमाण पत्र लेने के लिए आप को अंचल या बिहार भवन के निर्धारित काउंटर पर जाना पड़ेगा।
  • ऑनलाईन आवेदन में आवेदन पत्र एवं शपथ पत्र पर आवेदक का हस्ताक्षर नहीं लिया जा रहा है, अत: प्रमाण पत्र की प्राप्ति के समय अंचल के काउन्टर पर आवेदक को उपस्थित होकर इन दोनों कागजातों पर हस्ताक्षर करना होगा।
  • प्रमाण पत्र की प्राप्ति के समय आवेदक को अपने पहचान के साक्ष्य स्वरूप भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मतदान के लिए निर्धारित विभिन्न फोटो पहचान पत्रों में से किसी एक को काउन्टर पर दिखाना होगा।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।