Main Menu

सभी नागरिकों को मृत्यु प्रमाण पत्र

सभी नागरिकों को मृत्यु प्रमाण पत्र

मृत्यु प्रमाणपत्र

मृत्यु प्रमाणपत्र एक दस्तावेज होता है , जिसे मृत व्यक्ति के नजदीकी रिश्तेदारों को जारी किया जाता है , जिसमें मृत्यु की तारीख तथ्य और मृत्यु के कारणों का विवरण होता है ।

मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए कानून

जन्म और मृत्यु पंजीकरम अधिनियम ,1969

1-मृत्यु होने के 21 दिनों के भीतर संबंधित राज्य या संघ राज्य क्षेत्र में पंजीकरण कराना जरुरी है ।

महापंजीयक- केंद्र में मृत्यु का पंजीकरण का काम करता है ।

मुख्य पंजीयक- राज्यों में मृत्यु का पंजीकरण का काम करता है ।

जिला पंजीयक- गांवों में मृत्यु का पंजीकरण का काम करता है ।

पंजीयक परिसर- नगरों में मृत्यु का पंजीकरण का करता है ।

मृत्यु प्रमाणपत्र की प्रक्रिया

  1. -मृत्यु प्रमाण पत्र के आवेदन के लिए पहले पंजीकरण कराएं ।
  2. -प्रपत्र भरने और उचित सत्यापन के बाद मृत्यु प्रमाणपत्र जारी किया जाता है ।
  3. -अगर मृत्यु होने के 21 दिन के भीतर मृत्यु का पंजीकरण नहीं किया जाता है तो पंजीयक या क्षेत्र मजिस्ट्रेट से निर्धारित शुल्क के साथ अनुमित दी जायेगी ।
  4. -आवेदन प्रपत्र क्षेत्र के स्थानीय निकाय, प्राधिकरणों या पंजीयक के पास उपलब्धहोता है , जो मृत्यु रजिस्टर का रखरखाव करता है।
  5. -मृतक व्यक्ति के जन्म का प्रमाणपत्र एक वचनपत्र , जिसमें मृत्यु का समय और तारीख लिखी हो, राशनकार्ड की एक प्रति और न्यायालयीन स्पैंप के रुप में अपेक्षित शुल्क भी जमा करना पड़ सकता है ।
  6. -घर पर मृत्यु होने पर मृत्यु की रिपोर्ट या इसका पंजीकरण परिवार के मुखिया के द्वारा किया जा सकता है ।
  7. -मृत्यु का पंजीकरण संबंधित प्राधिकारी के पास मृत्यु के 21 दिनों के भीतर पंजीयक द्वारा निर्धारित प्रपत्र भरने के बाद किया जाता है ।
  8. -अगर मृत्यु अस्पताल में होती है तो चिकित्सा प्रभारी पंजीकरण किया जाता है ।
  9. -अगर मृत्यु जेल में होती है तो जेल प्रभारी पंजीकरण करता है ।
  10. -अगर शव लावारिश पड़ा हो तो ग्राम का मुखिया या स्थानीय प्रभारी पंजीकरण करता है।

संलग्नक सूची 

1.पहचान से सम्बंधित निर्वाचन आयोग द्वारा जारी वोटर कार्ड/पैन कार्ड /ड्राइविंग लाइसेन्स/राष्ट्रीयकृत बैंक की फोटो युक्त पासबुक/राशन कार्ड/स्वप्रमाणित घोषणा पत्र से कोई एक की प्रमाणित प्रति प्रस्तुत करना होगा।

2.चिकित्सालय का जन्म /मृत्यु प्रमाण पत्र अथवा जहाँ पर चिकित्सालय नहीं है अथवा चिकित्सालय होते हुए भी चिकित्सालय में बच्चे का जन्म/मृत्यु नहीं हुई है ऐसी दशा में आवेदक को जन्म/मृत्यु प्रमाण पत्र के सम्बन्ध में ग्राम प्रधान/क्षेत्रीय पार्षद/सांसद /एम .बीबी. एस डॉक्टर में से किसी एक का हस्ताक्षर एवं मोहर सहित प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

मृत्यु प्रमाणपत्र के लाभ

1-जन्म प्रमाणपत्र बहुत महत्वपूर्ण पहचान का दस्तावेज है । इसके होने पर नागरिक सरकार की बहुत सारी सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं ।

2-यह सभी प्रयोजनों के लिए किसी की मृत्यु की तारीख और तथ्य को प्रमाणित करता है ।

 

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)