Main Menu

बैंक में कितने प्रकार के जमा खाते होते हैं

बैंक में कितने प्रकार के जमा खाते होते हैं

बैंक क्या है?

बैंक एक वित्तीय संस्थान है , जिसकी प्राथमिक गतिविधि ग्राहकों के लिए भुगतान के ऐजेंट के रुप में में उधार लेने और उधार देने का कार्य करना है ।

बैंक में जमा खाते

  1. बचत खाते(Savings Accounts)
  2. आवर्ती खाते(Recurring Accounts)
  3. मियादी जमा खाते(Fixed Deposit Accounts)

        1.  बचत खाते(Savings Accounts)

  • हर रोज के इस्तेमाल के लिए खुलवाया जाने वाला खाता 
  • इसमें कभी भी रकम डाली जा सकती है और निकाली जा सकती है ।
  • ये खाते व्यापारिक उद्देश्य से नहीं खोले जाते हैं। इसलिए इस खाते से रकम निकालने पर बैंक कुछ पाबंदी लगाते हैं।
  • एक सीमा से ज्यादा लेन-देन किए जाने प बैंक कुछ शुल्क भी लगा सकते हैं ।
  • इन खातों पर हर छमाही पर ब्याज दिया जाता है ।
  • आमतौर पर महीने की 10 तारीख से अंतिम तारीख के बीच खाते में न्यूनतम राशि पर ब्याज दिया जाता है ।
  • जमाकर्ता महीने के पहले नौ दिन अपना पैसा इस्तेमाल कर सकता है और दसवें दिन उतनी ही रकम खाते में डालकर पूरे महीने का ब्याज पा सकता है ।

        2.  आवर्ती खाते(Recurring Accounts)

  • हर महीने एक निष्चित रकम जमा कर आवर्ती खाता खोल सकते हैं।
  • ये खाते एक निर्धारित अवधि के लिए खोले जाते हैं ।
  • हर महीने जमा की जा रही रकम पर खाते की निर्धारित अवधि पूरी होने तक पूर्व निर्धारित दर से ब्याज मिलता है ।

        3.  मियादी जमा खाते(Fixed Deposit Accounts)

  • इस खाते में एक निष्चित समय के लिए रकम जमा कर दी जाती है ।
  • इसके लिए जमाकर्ता को मियादी जमा रसीद मिलती है।
  • इस खाते में बचत खाते से ज्यादा ब्याज मिलता है ।
  • इसमें ब्याज की दर जमा राशि की अवधि के दौरान नहीं बदलती है ।
  • मियादी खाता एक से ज्यादा रखा जा सकता है और इसका ब्याज हर महीने हर तिमाही व्यक्ति के बचत/चालू खाते में जमा हो सकता है ।
  • आपके मियादी/आवर्ती खाते का अपने नवीकरण होता रहेगा ताकि एक लंबी अवधि के बाद आपको एक बड़ी रकम मिल सके।
  • कुछ बैंक हर महीने बदली जा  सकने वाली किस्तों के आवर्ती खाते भी स्वीकार करते हैं ।
  • अंधे और अनपढ़ लोग भी बैंकों में खाते खोल सकते हैं । उनके लिए विशेष सुविधाएं हैं तथा उन्हें धोखाधड़ी से बचाने के लिए विशेष प्रावधान हैं ।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)