Main Menu

राजस्थान में डुप्लीकेट मार्कशीट कैसे प्राप्त करें

राजस्थान में डुप्लीकेट मार्कशीट कैसे प्राप्त करें

यहां पर हम आपको बताएंगे कि आप माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की (हाईस्कूल और इंटरमीडिएट) पिछले वर्षों की डुप्लीकेट मार्कशीट कैसे डाउनलोड कर सकते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। और नीचे दिए गयी प्रक्रिया को फॉलो करना होगा। ऐसा करने पर आप बड़ी आसानी से अपनी डुप्लीकेट मार्कशीट को डाउनलोड कर सकेंगे। यदि आप चाहें तो उसका प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।

 

आप अपनी डुप्लीकेट मार्कशीट प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आप इंटनेट ब्राउजर पर जाएं और वहां पर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की आधिकारिक वेबसाइट का यूआरएल rajeduboard.rajasthan.gov.in टाइप करें। और फिर Enter की पर क्लिक कर दें।

 

Enter की पर क्लिक करने के बाद माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान की आधिकारिक वेबसाइट खुल जाएगी।

अब आपको वेबसाइट के बांयी ओर नीचे की तरफ "Old Results Verification" पर क्लिक करना होगा।

 

"Old Results Verification" पर क्लिक करते ही आपके सामने एक नया फॉर्म खुल जाएगा। इस फॉर्म में आपको डुप्लीकेट मार्कशीट का Year, Exam और Roll No. भरना होगा। और इसके बाद Submit बटन पर क्लिक करना होगा।

 

Submit बटन पर क्लिक करते ही आपके सामने आपकी डुप्लीकेट मार्कशीट खुलकर सामने आ जायेगी। अब आप चाहें तो इस मार्कशीट का प्रिंट आउट भी ले सकते हैं। इसके लिए आप दाहिनी तरफ ऊपर की ओर Print के बटन पर क्लिक करें।

 

Print के बटन पर क्लिक करते ही मार्कशीट के Print होने का ऑप्शन बांयी तरफ खुलकर आ जाएगा। अब आप Print ऑप्शन के बटन पर क्लिक करें। इस पर क्लिक करते ही । आपकी डुप्लीकेट मार्कशीट की कॉपी प्रिंट होकर आपके सामने आ जाएगी।

 

     

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।