Main Menu

मप्र में डुप्लीकेट मार्कशीट कैसे प्राप्त करें

मप्र में डुप्लीकेट मार्कशीट कैसे प्राप्त करें

आप मध्य प्रदेश में किसी भी बोर्ड में पढ़ाई करते हैं। और आपकी मार्कशीट कट-फट गयी या फिर चोरी हो गयी है, तो घबराने की कोई बात नहीं है। आप यहां पर उसकी दूसरी कॉपी (डु्प्लीकेट कॉपी) प्राप्त कर सकते हैं।

इसके लिए आपको सबसे पहले मध्य प्रदेश सरकार की अधिकारिक वेबसाइट https://mponline.gov.in/ पर जाना होगा।

  • वेबसाइट के होम पेज पर पहुंचने के बाद ऊपर नागरिक सेवाएं के मीनू में जाकर आवेदन के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

  • जब आप आवेदन के ऑप्शन पर क्लिक करेंगे तो एक नया विंडो खुल जाएगा। अब आप इस पेज के ऊपर माशिमं (माध्यमिक शिक्षा मंडल) ऑप्शन पर क्लिक करें।

  • जैसे ही आप माशिमं पर क्लिक करेंगे। वैसे ही आप एक नए पेज में माशिमं के लिंक पर पहुंच जाएंगे।

  • अब आप इसके "counter based forms" मीनू पर क्लिक करें। जब आप इस पर क्लिक करेंगे तो कई लिंक्स का एक पेज खुल जाएगा। आप इस पेज के चौथे नंबर पर "Duplicate/Correction Certificate/Mark sheet/ Migration" के नीचे "Application Form" पर क्लिक करें।

  • जब आप "Application Form" पर क्लिक कर देंगे तो आपके सामने एक नया पेज खुलकर सामने आ जाएगा। इस पेज में आपको अपना (छात्र/छात्रा) का विवरण कक्षा, परीक्षा, वर्ष, डुप्लीकेट मार्कशीट  (दिए गए एक ऑप्शन में से किसी एक को सेलेक्ट करें)  और रोल नंबर भरें  ।  अब आप सबमिट बटन पर क्लिक करें।

 

  • यहां पर आपको डुप्लीकेट मार्कशीट को प्राप्त करने के लिए एक पहचान दस्तावेज अपलोड करना होगा। इसके लिए आपको पहचान पत्र संलग्न के ऑप्शन के नीचे पहचान-पत्र के प्रकार (उदाहरण- वोटर आईडी) को सेलेक्ट करना होगा। और इसके बाद पहचान-पत्र क्रमांक भरकर पहचान पत्र की कॉपी को अपलोड करना होगा।

 

  • इसके बाद आप पत्र व्यवहार का वर्तमान पता के ऑप्शन में जाएं और वहां पर मकान नंबर, कालोनी, गांव या शहर भरें, फिर राज्य और जिला को सेलेक्ट करें। इसके बाद पिन कोड, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी भरें। अब आप घोषणा पर चेक मार्क लगाने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक कर दें। अब आपके द्वारा भरी गयी सूचना खुलकर सामने आ जाएगी। अब आप इन सूचनाओं को चेक कर लें कि सही हैं या नहीं। यदि ये सूचनाएं सही हैं तो आप सबमिट बटन पर क्लिक कर दें। सबमिट बटन पर क्लिक करने से पहले आप यहां पर दर्ज आवेदक क्रमांक को कॉपी करके रख लें, क्योंकि इस क्रमांक के जरिए ही आप अपनी मार्कशीट की स्थिति की जांच कर सकेंगे।

  • इसके बाद आपको 325 रुपए शुल्क के रुप में अदा करना होगा। इसके लिए पर नीचे दिए गए ऑप्शन "proceed to Pay" की बटन पर क्लिक करें। हालांकि इसके पहले आप इस पेज का प्रिंट अवश्य ले लें। आप क्रेडिट या डेबिट कार्ड से पेमेंट कर सकते हैं।

 

  • आप क्रेडिट या डेबिट कार्ड से पेमेंट करने के लिए फिर से होम पेज पर जाएं। अब आप इसके "counter based forms" मीनू पर क्लिक करें। जब आप इस पर क्लिक करेंगे तो लिंक का एक पेज खुल जाएगा। आप इस पेज के चौथे नंबर पर "Duplicate/Correction Certificate/Mark sheet/ Migration" के नीचे "Paid/Unpaid Duplicate Recipt"  पर क्लिक करके आवेदन क्रमांक के जरिए डुप्लीकेट रिसीप्ट प्राप्त कर सकते हैं।

 

डुप्लीकेट मार्कशीट के आवेदन की स्थिति जानें

  • इसके बाद आप चाहें तो अपने आवेदन की स्थिति जान सकते हैं। इसके लिए आप "Application Status" पर क्लिक करें। यहां पर क्लिक करने पर एक नया फॉर्म खुल जाएगा। 

  • इस फॉर्म में आप अपना रोल नंबर, वर्ष और परीक्षा का प्रकार भरें। और "Show status"  पर क्लिक कर दें।

 

  • "Show status"  पर क्लिक करने के बाद दस्तावेज के डिस्पैच की स्थिति के बारे में सूचना खुलकर सामने आ जाएगी।

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)