Main Menu

यूपी में इण्टरमीडिएट का रिजल्ट कैसे चेक करें

यूपी में इण्टरमीडिएट का रिजल्ट कैसे चेक करें

उत्तर प्रदेश में आप बहुत ही आसान तरीके से उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) की आधिकारिक वेबसाइट upresults.nic.in  पर जाकर यूपी बोर्ड के 12वीं कक्षा का परिणाम चेक कर सकते हैं। इतना ही नहीं आप वेबसाइट पर ऑनलाइन मार्कशीट भी देख सकते हैं। 

इसके लिए आपको नीचे दी गयी प्रक्रिया को फॉलो करना होगा। 

  • सबसे पहले आर परीक्षा का परिणाम देखने के लिए upresults.nic.in या upmspresults.up.nic.in पर जाएं।

  • जब आप वेबसाइट के होम पेज पर पहुंचेंगे तो आपको "हाईस्कूल परीक्षाफल 2018" और "इण्टरमीडिएट परीक्षाफल 2018"ऑप्शन नजर आएंगे। इसमें से आप सबसे पहले "इण्टरमीडिएट परीक्षाफल 2018" पर क्लिक करें।

  • "इण्टरमीडिएट परीक्षाफल 2018" पर क्लिक करने के बाद एक फॉर्म खुलकर आपके सामने आ जायेगा। इस फॉर्म में आप परीक्षा का वर्ष और रोल नंबर डालें। और इसके बाद "View Result"  पर क्लिक कर दें।
  • "View Result"  पर क्लिक करने के बाद आप का रिजल्ट ओपन हो जाएगा।

  • अब ऑनलाइन दिखने वाली मार्कशीट को आप डाउनलोड ऑप्शन को सिलेक्ट कर अपने पास सेव कर सकते हैं। और साथ ही प्रिंट भी ले सकते हैं।

नोटः – क्षेत्रीय कार्यालय बरेली, इलाहाबाद तथा वाराणसी / गोरखपुर के सभी जनपदों के वर्ष 1923 से 1985 तक के तथा क्षेत्रीय कार्यालय मेरठ के सभी जनपदों के वर्ष 1923 से 1983 तक की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट परीक्षाओं से सम्बन्धित समस्त कार्यों के लिये माध्यमिक शिक्षा परिषद मुख्य कार्यालय इलाहाबाद से सम्पर्क करें। नवसृजित क्षेत्रीय कार्यालय गोरखपुर से सम्बन्धित सभी जनपदों के वर्ष 1986 से 2017 तक के सभी कार्यों के लिये क्षेत्रीय कार्यालय वाराणसी से सम्पर्क करें।

 

मुख्यालय

माध्यमिक शिक्षा परिषद, उत्तर प्रदेश

9, सरोजिनी नायडू मार्ग, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, पिन- 211001

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।            (अधिकार एक्सप्रेस आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है)