Main Menu

अग्नि दुर्घटना के कितने प्रकार हैं

अग्नि दुर्घटना के कितने प्रकार हैं

प्रमुख रुप से कर्बोनेशियस  फायर (Carbonatious  Fire), ऑयल फायर (Oil Fire ) , ईलेक्ट्रिकल फायर (Electrical fire ) , जैसी तीन प्रकार की आग लगती है। जिसको बुझाने के लिए अलग-अलग यंत्रों का प्रयोग किया जाता है। 

  1. कर्बोनेशियस  फायर (Carbonatious  Fire) -  लकड़ी ,कच्चे कोयले और पक्के कोयले से जलाई जाने वाली आग को कर्बोनेशियम फायर कहते हैं। इसको बुझाने के लिए पानी और सोडा एसिड अग्निशामक (Extinguisher) यन्त्र  का प्रयोग किया जाता है। 
  2. ऑयल फायर (Oil Fire ) -  तैलीय पदार्थों से जलने वाली आग ऑयल फायर कहलाती है। इस आग को बुझाने के लिए फोम फायर अग्निशामक (Extinguisher ) यन्त्र का प्रयोग किया जाता है। 
  3. ईलेक्ट्रिकल फायर (Electrical fire ) - बिजली (Electric ) से जलने वाली आग को इलेक्ट्रिक फायर कहते हैं। इस आग को बुझाने के लिए सीटीसी अग्निशामक यन्त्र (C.T.C. Fire Extinguisher) का प्रयोग किया जाता है। 

अग्नि से सुरक्षा के लिए सावधानियां- 

  • आग जल्दी पकड़ने वाले पदार्थों को अलग स्थान पर रखना चाहिए।
  • वर्कशॉप में धूम्रपान नहीं करना चाहिए।
  • कार्य करने वाले स्थान को अच्छी  तरह से साफ रखना चाहिए , और मशीन को साफ करने वाले कॉटन वेस्ट को प्रयोग में लेने के बाद एक बॉक्स में डालकर अच्छी तरह से ढक्कन बंद कर देना चाहिए।
  • दोपहर के समय और शाम को वर्कशॉप बंद करते समय बिजली के बटनों को बंद कर देना चाहिए।
  • आग बुझाने के लिए वर्कशॉप में रेत और पानी की बाल्टियाँ भर कर रखनी चाहिए।
  • आग बुझाने के लिए वर्कशॉप में अग्निशामक यन्त्र (Fire Extinguisher) तैयार रखने चाहिए।
  • यदि किसी कारणवश आग लग जाये तो वर्कशॉप के खिड़कीयां और दरवाजे बंद रखने चाहिए।
  • यदि आग तेल से लगी हो तो उसे बुझाने के लिए रेत या मिट्टी का प्रयोग करना चाहिए और पानी का प्रयोग बिलकुल नहीं करना चाहिए
  • ज्वलनशील पदार्थों को एक निश्चित जगह में रखें
  • माचिस का प्रयोग अनावश्यक रूप से ना करें
  • ज्वलनशील पदार्थों की निश्चित मात्रा ही घर में रखें
  • एलपीजी वाला किचन खुला और हवादार होना चाहिए
  • किचन में गैस की गंध आ रही हो तो पहले खिड़की और दरवाजा खोलें। बिजली का बटन नहीं दबाएं
  • कोई भी काम रेगुलेटर बन्द करने के बाद करें
  • यदि आवश्यकता लगे तो गैस एजेंसी का सहयोग लें
  • आग के खतरे के बारे में जानें और बच्चों को इसके बारे मे बताकर सतर्क करें

सदस्यता लें

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।