Main Menu

हिप्र में अग्निशमन NOC कैसे बनाएं

Watch the video

हिप्र में अग्निशमन NOC कैसे बनाएं

हिमाचल प्रदेश में NOC कैसे प्राप्त करें

अधिकार एक्सप्रेस के इस नए वीडियो में आपका स्वागत है। आज हम इस वीडियो में आपको बताएँगे कि किस तरह आप हिमाचल प्रदेश में बहुमंजिले भवन, उद्योग, स्कूल, कालेज, विश्वविद्यालय, नर्सिंग होम और हास्पिटल जैसे भवनों की अग्नि सुरक्षा के लिए कैसे  अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते हैं। 

  1. अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आप आगे दिए गए  दोनों लिंक्स में से किसी एक लिंक पर क्लिक करके http://fire.hp.gov.in/ या http:himachal.gov.in/showfile.php?lang=1&dpt_id=171&level=1&sublikid=8624&lid=8986 आनलाइन फार्म प्राप्त करें।
  2. इस फार्म को अच्छी तरह से भरकर सबंधित क्षेत्र के फायर स्टेशनों/पोस्टों के प्रभारी के यहां जमा करें।
  3. आपके आवेदन को प्राप्त करने के बाद फायर स्टेशनों/पोस्टों के प्रभारी निर्धारित मानदंडों के अनुसार संबंधित फर्म/संस्थानों, स्कूलों आदि का निरीक्षण करेंगे और रिपोर्ट को फार्म- बी पर मुख्य अग्निशमन अधिकारी, हिमाचल प्रदेश, शिमला-2 को प्रस्तुत करेंगे ।
  4. फिर निरीक्षण रिपोर्ट की अग्निशमन मुख्यालय के स्तर पर फायर प्रिवेंशन अधिकारी द्वारा जांच की जायेगी। इसके बाद मुख्य अग्निशमन अधिकारी, हिमाचल प्रदेश, शिमला-2 NOC जारी करेंगे। 

आवश्यकता पड़ने पर आप नीचे दिए गए पते पर मुख्य अग्निशमन अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। 

मुख्य अग्निशमन अधिकारी

हिमाचल प्रदेश, शिमला-2

ई-मेल This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

फोन नंबर. 0177-2629945

फैक्स नंबर. 0177-2622945

हमें लिखें

यदि आप कोई सूचना, लेख, ऑडियो-वीडियो या प्रश्न हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो हमें भेजें।

सहायता करें


आज जिस तरह मीडिया कारपोरेट ढर्रे पर चल रही है, इसी ने हमें यह संकल्प लेने पर मजबूर किया कि हमें चुपचाप मौजूदा मीडिया के रास्ते पर नहीं चलना है, बल्कि देश के उन करोड़ों लोगों के अधिकारों की आवाज बनना है, जो इस लोकतांत्रिक देश में हर रोज अपने अधिकारों को पाने के लिए पुलिस, अधिकारी और नेता की मनमानी का शिकार बन रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। हालांकि जब हमने इसे शुरु किया तो हमारे सामने आर्थिक चुनौती खड़ी हो गयी, लेकिन हमने चुनौती को स्वीकार करते हुए थोड़े कम पैसों में ही एक कठिन रास्ते पर चलने की ठान ली और एक गैर-लाभकारी कंपनी बनाई। इंटरनेट का सहारा लिया और बिल्कुल अगल ही तरह का न्यूज पोर्टल बनाया। इसमें हमने अधिकारों की जानकारी देने के साथ ही अधिकारों से संबधित घटनाओं को लोगों तक पहुंचाने की शुरुआत की।

हमारा ऐसा मानना है कि यदि लोकसेवा अधिकारों को बचाए रखना है तो ऐसी पत्रकारिता को आर्थिक स्वतंत्रता देनी ही होगी। इसके लिए कारपोरेट घरानों और नेताओं की बजाय आम जनता को इसमें भागीदार बनना होगा। जो लोग भ्रष्टाचार मुक्त सच्ची पत्रकारिता को बचाए रखना चाहते हैं, वे सामने आएं और अधिकार एक्सप्रेस को चलाने में मदद करें। एक संस्थान के रूप में ‘अधिकार एक्सप्रेस’ लोकहित और लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुसार चलने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमें पढ़ें और इस जानकारी को जन-जन तक पहुंचाएं, शेयर करें, और बेहतर करने का सुझाव दें।